इस्लामिक जगत को इजरायल ने फिर दी सीधी चुनौती.. ऐतिहासिक अलअहमर मस्जिद में खोल दिया शराबखाना

अगर आपसे पूंछा जाए कि क्या भारत की किसी भी मस्जिद में शराबखाना खोला जा सकता है? क्या भारत में किसी भी मस्जिद में शराब परोसी जा सकती है ? तो इस प्रश्न के जवाब में आप यही कहेंगे कि ऐसा करना असंभव है. आप या कोई भी इस बात पर विश्वास नही कर सकता कि भारत ही नहीं बल्कि दुनिया के किसी भी मुल्क में किसी मस्जिद पर वहां की सरकार कब्जा कर ले तथा वाहन उस चीज की इजाजत दे, जिसे इस्लाम में हराम माना जाता है? मस्जिद को कब्जा कर वहां शराबखाना खोल दिया जाए, बार खोल दिया जाए?

लेकिन ये असंभव् सा कार्य हुआ तथा इसे संभव कर दिखाया है उस देश ने जिसे इस्लामिक जगत का सबसे बड़ा दुश्मन माना जाता है तथा वो मुल्क है इजरायल. मीडिया सूत्रों से मिली खबर के मुताबिक़, इजरायल ने फ़िलिस्तीन के क्षेत्र में स्थित ऐतिहासिक मस्जिद को शराब ख़ाने में बदल दिया. ये वो मस्जिद है जिसे ऐतिहासिक मस्जिद माना जाता है. इजरायल के इस कदम के बाद न सिर्फ इस्लामिक मुल्कों बल्कि पूरी दुनिया में हड़कंप मच गया है.

एक अरबी अखबार की रिपोर्ट के अनुसार, उत्तरी फ़िलिस्तीन के क्षेत्र सफ़्द के स्थानीय प्रशासन ने 13वीं सदी में निर्मित अलअहमर नामक मस्जिद को शराब ख़ाने और शादी हाल में बदल दिया. बता दें कि ये वो जगह है जहाँ इजरायल की सत्ता है लेकिन फिलिस्तीन कहता है कि इस पर इजरायल ने जबरन कब्जा किया हुआ है. इस बारे में वार्ता करते हुए फ़िलिस्तीनी इस्लामी वक़्फ़ के सेक्रेट्ररी ख़ैर तबारी ने बताया कि जब मैंने मस्जिद के अंदर होने वाली विध्वंसक कार्यवाहियां देखी तो मुझे बहुत अफ़सोस हुआ, वहां मिंबर पर मौजूद क़ुरआनी आयतों के शिलालेख को हेब्रू में 10 आदेशों से बदल दिया गया था.


राष्ट्रवादी पत्रकारिता को समर्थन देने हेतु हमे आर्थिक सहयोग करे. DONATE NOW पर क्लिक करे
DONATE NOW

Share