जमीन से टैंक और आसमान से जेट विमान…. इजरायल ने कमर कसी आतंकियों की कमर तोड़ने के लिए


इजराइल सेना अपने काम में निपुण है चाहे वो लड़ाई की बात हो या कोई कैप में हो रही एक्टिविटी ऐसे में इस सेना ने हलही में एक दावा किया है इजरायल

सैना ने गाजा पट्टी पर अपने टैंकों और लड़ाकू जहाजों से इस पर हमला किया है फलस्तीनी की दक्षिणी इजरायल में रॉकेट हमले के बाद ये कार्रवाई की गई है।

दूसरा रॉकेट दागे जाने के बाद ही सेना की ओर से कहा गया कि इजरायली सेना ने हमास की लड़ाकू पोस्ट को टैंक से निशाना बनाया है।

सेना के प्रवक्ता ने बताया गाजा पट्टी से दो रॉकेट दागे गए लेकिन इजरायल की आयरन डोम मिसाइल रक्षा प्रणाली ने दूसरे रॉकेट को हवा में ही नष्ट कर दिया।

पहला रॉकेट दागने के बाद इस्राइल सेना ने एक बयान जारी कर कहा कि इस हमले की प्रतिक्रिया में, ‘दक्षिणी गाजा पट्टी में स्थित हमास सैन्य चौकी को एक टैंक

और इजरायल की वायु सेना ने निशाना बनाया’। हालांकि सेना ने यह नहीं बताया कि रॉकेट के हमले में जान-माल का कोई नुकसान हुआ या नहीं।

इजरायली सेना ने इसके लिए हमास को जिम्मेदार ठहराते हुए कहा कि उसने इजरायल की अधिकृत जमीन पर हमला किया। ताजा रॉकेट हमला अमेरिकी राष्ट्रपति

डोनाल्ड ट्रंप की ओर से येरूशलम को इजरायल की राजधानी के तौर पर मान्यता देने के बाद किया गया। इस ऐलान के बाद से फिलिस्तीनी क्षेत्र मंन अशांति बनी

हुई है।
राष्ट्रपति ट्रंप के इस ऐलान के बाद कुल मिलाकर 4 लोगों की मौत हो चुकी है और कई अन्य घायल हुए हैं।

पश्चिम तट में फिलिस्तीनी प्रदर्शनकारियों ने

इजरायली सैनिकों पर पथराव किया था। सैनिकों ने भी जवाबी कार्रवाई करते हुए आंसू गैस के गोले छोड़े और रबर की गोलियां चलाई थी।

जॉर्डन, तुर्की, पाकिस्तान और मलेशिया सहित कई मुस्लिम और अरब देशों में भी हजारों लोगों ने इस फैसले के खिलाफ विरोध प्रदर्शन किया। बांग्लादेश, लेबनान,

इंडोनेशिया, मिस्र और फिलस्तीनी क्षेत्रों में विरोध प्रदर्शन हुए।


सुदर्शन के राष्ट्रवादी पत्रकारिता को आर्थिक सहयोग करे और राष्ट्र-धर्म रक्षा में अपना कर्त्तव्य निभाए
DONATE NOW

Share