जैसे कभी दुनिया भर में चला था #MeeToo . वैसे फिर चल रहा एक अभियान लेकिन इसमें करतूत आ रही मदरसों के अन्दर की


कभी बुद्धिजीवी समाज का सबसे प्रिय ट्रेंड चला था #MeeToo और उसमे सामने आ रहे थे कई उन लोगों के कारनामे जो खुद को लगाया करते थे एक हस्ती.. ये एक ऐसा ट्रेंड था जिसके चलते कुछ लोग आत्महत्या तक करने पर मजबूर हो गये थे..यद्दपि इसको रोकने की तमाम कोशिशे हुई थी लेकिन बुद्धिजीवी वर्ग ने इसको अभिव्यक्ति की आज़ादी बताते हुए इसका समर्थन किया था.. इसके सर्मथन में फिल्म जगत के भी कई लोग उस समय खड़े दिखाई दिए थे .

इस अभियान में जिस प्रकार से कई लडकियों ने अपने साथ कभी न कभी हुए यौन शोषण की बात सबके सामने रखी थी उसने कई चेहरों को बेनकाब कर दिया था . अब लगभग उसी प्रकार का एक ट्रेंड और चल रहा है जिसमे सामने आ रहे हैं इस्लामिक मुल्क बंगलादेश के मदरसों में हुए बच्चो और बच्चियो के यौन शोषण की . एक मामले के बाद कई लोगों ने मोर्चा खोल दिया है और सामने रख दिया है वहां के मदरसों के अंदर चल रहे यौन शोषण के घिनौने सच को जिसके बात तमाम चरमपंथी आग बूबला हैं .

लोग उस समय हैरान हो गये जब बांग्लादेश के कई पूर्व छात्रों सोशल मीडिया प्लेटफॉर्म का उपयोग कर पूरी दुनिया के सामने यह चौंकानेवाली बात रखना शुरू कर दिया ..फेसबुक पोस्ट के जरिए कई पूर्व छात्रों ने टीचरों पर यौन शोषण के आरोप लगाए हैं। मुस्लिम बहुल बांग्लादेश में बच्चों के साथ यौन शोषण के मामलों में लगातार बढोतरी हो रही है जो पिछले काफी समय से चर्चा का विषय हैं ! लोग अब खुलकर मदरसों में चल रहे इस खेल के खिलाफ अपनी आवाज उठा रहे हैं !

इसी अभियान से पता चला कि बंगलादेश की राजधानी ढाका के तीन मदरसों में पढ चुके होजैफा अल ममदूह ने भी मदरसों में छात्रों के हालातों पर चिंता व्यक्त की है ! उन्होंने जुलाई महीने में फेसबुक पोस्ट में लिखा है कि, मदरसों में शोषण बडे स्तर पर होता है और सभी छात्रों को इसकी जानकारी है। मैं मदरसों में पढानेवाले कई शिक्षकों को जानता हूं जो बच्चों के यौन उत्पीडन को महिलाओं की रजामंदी से विवाहेतर यौन संबंधों से कम बडा अपराध मानते है !’

हाल में 19 वर्षीय नुसरत जहां रफी का फेनी स्थित स्कूल में हेडमास्टर ने रेप कर दिया था। जिसके बाद लडकी ने पुलिस में शिकायत दर्ज करवाई। हेडमास्टर ने उस पर शिकायत वापस लेने का दबाव बनाया जब लडकी नहीं मानी तो उसे आग के हवाले कर मौत के घाट उतार दिया गया। इस भयावह घटना के बाद लोग अपनी आवाज तेजी से उठा रहे हैं !इसी क्रम में एक नारीवादी वेबसाइट पर अपनी कहानी प्रकाशित करानेवाले मोस्ताकिम्बिल्लाह मासूम ने कहा कि, वह जब सात साल के थे, तब उनका पहली बार रेप एक वरिष्ठ छात्र ने किया !


सुदर्शन के राष्ट्रवादी पत्रकारिता को आर्थिक सहयोग करे और राष्ट्र-धर्म रक्षा में अपना कर्त्तव्य निभाए
DONATE NOW

Share
Loading...

Loading...