शर्मनाक नाम दिया टॉपलेस घूमने की मुहिम को.. आजादी के नाम पर अश्लीलता तो नहीं ?


अमेरिका में कथित फेमिनिस्ट महिलाओं द्वारा आधुनिकता की आड़ में आजादी के नाम पर चलाए गये टॉपलेस घूमने के मूवमेंट को कानूनी मान्यता मिल गई है. अब अमेरिका में महिलायें टॉपलेस होकर घूम सकती हैं. खबर  मुताबिक़, पश्चिमी अमेरिका के छह राज्‍यों में टॉपलेस घूमना लीगल कर दिया है. बता दें कि यहाँ महिलाओं ने टॉपलेस होकर घूमने की मुहिम को “फ्री द निप्पल” मूवमेंट नाम दिया था तथा अब कोर्ट से इस मुहिम को कानूनी मान्यता मिल गई है.

अमेरिका के जिन 6 राज्यों में अक्ब महिलायें टॉपलेस होकर घूम सकती है उसमें व्‍योमिंग, उताह, कोलोराडो, कैनसस, न्यू मेक्सिको और ओक्लाहोमा शामिल है. दरअसल यहां ‘फ्री द निप्पल’ नाम से कई महिलाओं ने एक ग्लोबल मूवमेंट चलाया. इस आंदोलन में महिलाओं की मांग थी कि उनको भी पुरुषों की ही तरह टॉपलेस घूमने का अधिकार दिया जाए. साथ ही उनका मानना था कि महिलाओं का शरीर सिर्फ सेक्सुअल ऑबजेक्ट नहीं है, बल्कि उन्हें भी पुरुषों की तरह समान अधिकार मिलने चाहिए. इसी मूवमेंट पर अपना फैसला देते हुए कोर्ट ने टॉपलेस होकर घूमने को लीगल करार दिया.

हालाँकि कुछ महिलाओं ने इस मुहिम का विरोध भी किया था लेकिन उनको निराशा हाथ लगी. कोर्ट ने ‘फ्री द निप्पल’ मूवमेंट की बात मानी और इन 6 राज्‍यों में औरतों के टॉपलेस घूमने की मंजूरी दे दी. वहीं कोर्ट के फैसले के बाद बड़ी संख्या में महिलाओं ने खुशी जताई है तथा उनका कहना है कि उनका “फ्री द निप्पल” मूवमेंट सफल हुआ है. अब वह पुरुषों की तरह टॉपलेस होकर घूम सकती हैं. बता दें कि टॉपलेस बैन को हटाने के लिए फरवरी में अपील की गई थी. फॉर्ट कॉलिन्स शहर में सितंबर के आखिरी हफ्ते से ही महिलाएं टॉपलेस होकर घूम सकेंगी. इससे पहले सिर्फ 10 साल से कम उम्र वाली बच्चियां ही बिना टॉप के पब्लिक प्लेस में जा सकती थीं.

राष्ट्रवादी पत्रकारिता को समर्थन देने के लिए हमें सहयोग करेंनीचे लिंक पर जाऐं


सुदर्शन के राष्ट्रवादी पत्रकारिता को आर्थिक सहयोग करे और राष्ट्र-धर्म रक्षा में अपना कर्त्तव्य निभाए
DONATE NOW

Share