समझौता एक्सप्रेस फैसले पर आया पाकिस्तान का ये बयान साबित करता है कि “हिन्दुओ की बलि चढाई गयी थी पाकिस्तान को खुश करने के लिए”


शरीर पर भगवा वस्त्र था उनके .. मुह में राम राम , क्या इसी के चलते वो चुन लिए गये थे बलि चढाने एक लिए , उनके रिहा होने से जो नाराज हो रहा है तो यकीनन उनकी गिरफ्तारी से वो खुश हुआ होगा … असीमानंद के बाइज्जत बरी होने के पहले ही तमाम खुलासे हो चुके हैं . इस से पहले जमानत पर बाहर आये मामले के आरोपी सुधाकर चतुर्वेदी ने बताया कि कांग्रेस के दबाव में ही यूपी के सीएम योगी आदित्यनाथ और आरएसएस प्रमुख मोहन भागवत को मामले में फंसाने की साजिश रची गई थी.उन्होंने यह भी कहा कि जांच के दौरान साध्वी प्रज्ञा को जांच अधिकारियों ने पॉर्न मूवी और अश्लील फोटो दिखाकर टॉर्चर किया था.मालेगांव ब्लास्ट में शामिल होने का आरोप लगाकर एटीएस ने 15 दिन कस्टडी में रखा.

अब उन्ही असीमानंद की रिहाई पर चीख पड़ा है पाकिस्तान . पाकिस्तान के विदेश मंत्री शाह महमूद कुरैशी ने कहा कि उनका देश साल 2007 के समझौता ट्रेन विस्फोट मामले में एक भारतीय अदालत के फैसले और सभी चारों आरोपियों को बरी किए जाने का अध्ययन कर रहा है और अपने विकल्पों पर विचार कर रहा है।  पाकिस्तान का कहना है कि उसके 44 नागरिकों की मौत हुई। पाकिस्तान ने समझौता एक्सप्रेस विस्फोट मामले में आरोपियों के बरी किए जाने विरोध दर्ज कराया है।

पाकिस्तान के कार्यवाहक विदेश सचिव ने भारतीय उच्चायुक्त अजय बिसारिया को बुधवार को तलब किया और इस पर अपनी कड़ी आपत्ति दर्ज कराई। उन्होंने कहा कि पाकिस्तान मामले की धीमी सुनवाई और इस केस की प्रगति पर हमेशा चिंता जताता रहा है।   कुरैशी ने कहा कि भारत की राष्ट्रीय जांच अदालत के फैसले ने लोगों को हिला दिया। हिल जाने की बात करता ये वही पाकिस्तान है जो भारत के लोगों और सैनिको के खून की होली हर दिन खेल रहे हाफ़िज़ सईद और मौलाना मसूद अजहर को अपने देश का सम्मानित शहरी बताते हुए बार बार उनके खिलाफ सबूत न होने की दुहाई दिया करता है .


सुदर्शन के राष्ट्रवादी पत्रकारिता को आर्थिक सहयोग करे और राष्ट्र-धर्म रक्षा में अपना कर्त्तव्य निभाए
DONATE NOW

Share
Loading...

Loading...