जब तक देश में छिपे अंतिम आतंकी को खत्म नहीं कर लेता, इस्तीफा नहीं दूंगा- मैत्रिपाला सिरिसेना, राष्ट्रपति श्रीलंका

एक के बाद एक कार्यवाही से आतंकियों की आत्मा तक को कंपा देने वाला श्रीलंका आज कल बना हुआ है आतंकवाद से लड़ते दुनिया भर के देशो के लिए एक ऐसी नजीर जिस से बहुत कुछ सीखा और समझा जा सकता है. अपने देश में एक एक घर की तलाशी लेने और कई मौलवीयो मौलानाओं को देश से बाहर निकाल देने वाले श्रीलंका के राष्ट्रपति का एक और बयान बना हुआ है आज कल सुर्खियों में जिसके बाद ये तय माना जा रहा है कि अभी और भी कार्यवाही होनी निश्चित है .

विदित हो कि ईस्टर पर हुए इस्लामिक आतंकी हमले में कई ईसाइयों की मौत के बाद जिस प्रकार से श्रीलंका के राष्ट्रपति ने आंतकियो के खिलाफ सेना और पुलिस को खुली छूट दे डाली है उसके बाद उनके ऊपर दुनिया भर का दबाव आने लगा और उनके इस्तीफे आदि की बातें कही जाने लगी . कुछ जानकार इसको एक बड़ी साजिश बता रहे हैं जिस से उनका ध्यान आतंकियों के खिलाफ अपनी कड़ी कार्यवाही से हट जाए पर उन तमाम अटकलों पर आख़िरकार श्रीलंकाई राष्टपति ने दे डाली है सफाई .

श्रीलंका के राष्ट्रपति मैत्रिपाला सिरिसेना ने शनिवार को कहा कि वह देश में आतंकवाद को कुचलने और ईस्टर संडे पर किये गए कुकृत्य  के जिम्मेदार लोगों को न्याय के कटघरे में लाने तक इस्तीफा नहीं देंगे और न ही चैन से बैठेंगे. सरकार ने इसके लिये स्थानीय इस्लामिक चरमपंथी समूह नेशनल तौहीद जमात (एनटीजे) को जिम्मेदार ठहराया था. सिरिसेना ने कहा, ‘मैं न इस्तीफा दूंगा, न घर जाऊंगा और न ही डरूंगा. मैं तब तक चैन से नहीं बैठने वाला जब तक श्रीलंका से आतंकवाद का खात्मा न कर लूँगा .

Share This Post