अदालत में मुस्कराता रहा न्यूजीलैंड की अल नूर मस्जिद हमले का आरोपी ब्रेंटन टैरंट


उसके चेहरे पर ज़रा सा भी शिकन नहीं दिखी और ऐसा लगा ही नहीं कि उसने दुनिया को हिला कर रख दिया है . उसकी गोलियों की आवाज न्यूजीलैंड ही नहीं दुनिया के हर कोने तक सुनाई दी है क्योकि शायद ही कोई ऐसा देश रहा हो जिसने इस हमले पर अपनी प्रतिक्रिया नहीं दी है . अदालत में उसकी हंसी कोई देखे न इसलिए उसके चेहरे को ब्लर कर दिया गया.

यहाँ ये ध्यान रखने योग्य है कि इस हमले को उसने अकेले ही अंजाम दिया है और उसके साथ हिरासत में लिए गये २ अन्य लोगों को जल्द ही रिहा किया जा सकता है . उसके साथ हिरासत में 1 महिला भी है और एक नाबालिग लड़का भी है जिसका शुरुआती पूछताछ में कोई भी दोष या लिंक इस हमले से जुड़ा नजर नहीं आ रहा है .

शासन अल-नूर और लिनवुड मस्जिद पर हुए हमले में मारे गए लोगों की पहचान करने के लिए तेज़ी से काम कर रहा है. शनिवार को मुख्य संदिग्ध को हथकड़ी लगाकर क़ैदी वाली सफ़ेद शर्ट में अदालत में पेश किया गया. वो कैमरे के सामने मुस्कुरा रहा था. कमिश्नर बुश ने कहा कि इस शूटिंग में 28 साल का यह शख़्स एकलौता अभियुक्त है. बुश ने कहा, ”सुरक्षा बलों ने इसे बहादुरी के साथ रोका. वो और हमले कर सकता था लेकिन हमारे साथियों ने ऐसा नहीं होने दिया. हम इस बात को मानते हैं कि और हमले को हमने रोका है.


सुदर्शन के राष्ट्रवादी पत्रकारिता को आर्थिक सहयोग करे और राष्ट्र-धर्म रक्षा में अपना कर्त्तव्य निभाए
DONATE NOW

Share