Breaking News:

न्यूजीलैंड मस्जिद के हमलावर को सोशल मीडिया पर कहा जा रहा था “भटका हुआ नौजवान”.. क्या अब वो सही साबित होने जा रहा ?

न्यूजीलैंड की अल नूर मस्जिद पर हुए हमले में लगभग 50 लोगों की जान ले लेने वाले आस्ट्रेलिया के हमलावर ब्रेंटन टैरंट के मामले में आये दिन कुछ न कुछ ऐसी खबर आ रही है जो बनती जा रही हैं दुनिया भर के अख़बारों और समाचार माध्यमो का सुर्ख़ियों का विषय.. जहाँ एक तरफ मुस्लिम समाज के कई लोग इसको एक आतंकी घटना बता रहे हैं तो वहीँ सोशल मीडिया पर कुछ लोगों ने उसको भटका हुआ नौजवान कहा था और एक मौक़ा देने की मांग की थी सुधरने के लिए .

5 अप्रैल- दांतेवाडा में नक्सलियों से 2010 के युद्ध में अमर हुए CRPF के 73 योद्धाओं को शत-शत नमन

अब कुछ वैसा ही कदम उठाने की तरफ न्यूजीलैंड सरकार भी अग्रसर दिखाई दे रही है . ज्ञात हो कि न्यूजीलैंड सरकार ने आस्ट्रेलिया के हमलावर पर 50 हत्याओ का अभियोग चलाने का फैसला किया है लेकिन हमला करने से ले कर गिरफ्तारी और उसके बाद अदालत में पेशी के दौरान ब्रेटन टैरट के व्यवहार में कहीं भी एक भी बार प्रयाश्चित या डर के कहीं से कोई भी भाव नहीं दिखे .. वो हर बार हसंता और मुस्कराता हुआ ही दुनिया के आगे आया ..

एक और विपक्षी नेता का दावा… “हिन्दू राष्ट्र बनाने की कोशिश हो रही है भारत को”

उसके हसंते चेहरे को कोई देख न पाए इसके लिए अदालत में उसकी पेशी के दौरान चेहरे को न्यूजीलैंड की मीडिया ने ब्लर कर के चलाया और दिखाया भी . अब उसी हमलावर को मानसिक चिकित्सा के लिए भेजा जा रहा है . न्यूजीलैंड में फांसी की सज़ा बहुत पहले से ही बंद है और अगर उसको मानसिक रोगी घोषित कर दिया जाता है तो उसकी अन्य सजा में भी काफी राहत मिल जायेगी. न्यूजीलैंड की अदालत ने भी इस अपील को मान लिया है   28 वर्ष के आस्ट्रेलियाई हमलावर को प्राथमिक अदालत में पेश किया गया जहाँ वो व्हील चेयर पर बैठा दिखा.. अब कई लोगो द्वारा ये मांग उठने लगी है कि इस हमलावर का बाकायदा इलाज किया जाय और उसके बाद किसी निर्णय पर पंहुचा जाय …

दिल्ली में आई तो उसको वैसा बना दूँगी जैसा मैंने UP बनाया था – मायावती

राष्ट्रवादी पत्रकारिता को समर्थन देने हेतु हमे आर्थिक सहयोग करे. DONATE NOW पर क्लिक करे
DONATE NOW