दुर्दांत इस्लामिक आतंकी दल तालिबान का भारत पर बयान लिख गया नए भारत की गाथा


2014 में भारत में सत्ता क्या बदली, विश्व पटल पर भारत की पहिचान ही बदल गई. अब का भारत वो भारत नहीं रहा जो हर छोटे-मोटे काम के लिए दुनिया के आगे अनुमोदन करता था बल्कि अबका भारत वो भारत है जिसकी ताकत के आगे दुनिया भी झुक रही है. चाहे वह सर्जिकल स्ट्राइक हो, बालाकोट में एयर स्ट्राइक हो या फिर कश्मीर से आर्टिकल 370 हटाना.. दुनिया जिस तरह से भारत के साथ खड़ी नजर आई, ये नए भारत की ताकत का ही प्रतीक है. इसके अलावा भी तमाम ऐसे मौके आये हैं जब दुनिया के सबसे बड़े से बड़े मुल्कों ने न सिर्फ भारत का साथ दिया है बल्कि भारत की बढ़ती वैश्विक ताकत को स्वीकारा भी है.

अब दुर्दांत इस्लामिक आतंकी दल तालिबान ने भारत के बारे में जो बयान दिया है, उसने भी नए भारत की शौर्यगाथा पर अपनी मुहर लगाई है. अफगानिस्तान में सक्रिय आतंकी दल तालिबान ने कहा है कि राष्ट्र से अमेरिकी सैनिकों की वापसी को लेकर भारत आशंकित न हो क्योंकि भारत हमारा पड़ोसी है तथा पड़ोसी होने के नाते अफगानिस्तान के नवनिर्वाण में हमें भारत से मदद की आवश्यकता होगी. ये बयान तालिबान के के प्रवक्ता मोहम्मद सुहैल शाहीन ने दिया है.

दरअसल तालिबानी प्रवक्ता से सवाल किया गया था कि अफगान से अमेरिकी सैनिकों की वापसी के बाद तालिबान अपने लड़ाकों(आतंकियों) को भारत की ओर भेज सकता है? इस पर तालिबानी प्रवक्ता ने कहा कि ऐसा नहीं है. यह वास्तविकता नहीं है. जब हम अपने देश के फिर से मुक्त होने के बाद अपने देश में बदलाव लाएंगे तो हमें अपने लोगों की जरूरत पड़ेगी. ऐसे में हम उन्हें भारत क्यों भेजेंगे. हमें अपने देश के पुनर्निर्माण और विकास में मदद करने के लिए अन्य देशों के साथ संबंध बनाने की आवश्यकता है. भारत हमारा पड़ोसी है तथा अफगानिस्तान को अपने पुनर्निर्माण के लिए पड़ोसी राष्ट्र की मदद की आवश्यकता होगी.


सुदर्शन के राष्ट्रवादी पत्रकारिता को आर्थिक सहयोग करे और राष्ट्र-धर्म रक्षा में अपना कर्त्तव्य निभाए
DONATE NOW

Share
Loading...

Loading...