Breaking News:

पहली बार इस्लामिक आतंकी दल तालिबान ने बताया अपना दर्द… जानिए दुनिया के लिए दर्द बने का दर्द

इस्लामिक आतंकी दल तालिबान ने पहली बार अपना दर्द दुनिया के सामने बयां किया है. वो इस्लामिक आतंकी दल तालिबान, जो हमेशा से दुनिया को दर्द देता आया है, मजहब के नाम पर निर्दोषों का खून बहाता रहा है, वो तालिबान अब अपना दर्द बयां कर रहा है. अमेरिका द्वारा तालिबान के साथ वार्ता रद्द किये जाने के बाद तालिबान ने अपना दर्द बयां किया तथा कहा कि अमेरिका ने हमारे हजारों लड़ाके मारे, लेकिन हमने उनके एक सैनिक को मार दिया तो वार्ता रद्द कर दी.

तालिबान के प्रवक्ता शेर मोहम्मद अब्बास स्तानिकजई ने  कहा कि अमेरिका का कहता है कि तालिबान के बीच वार्ता के दौरान उन्होंने हजारों की संख्या में तालिबानियों को मारा है. अगर इस तरह से वार्ता के दौरान तालिबान ने अपनी लड़ाई में एक अमेरिकी सैनिक को मार दिया तो इसका मतलब ये नहीं कि वो इस तरह कि प्रतिक्रिया देगा. क्योंकि दोनों पक्षों के बीच कोई ऐसा संघर्ष विराम नहीं हुआ है जिससे वार्त रद्द की जाए.

बता दें कि अमेरिका के राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप ने तालिबान के साथ 8 सितंबर को होने वाली एक गोपनीय बैठक, काबुल में हुए विस्फोट में कई लोगों के मारे जाने के बाद रद्द कर दी थी. मारे गए लोगों में एक अमेरिकी सैनिक भी शामिल था. इस हमले की जिम्मेदारी तालिबान ने ली थी. अमेरिका द्वारा तालिबान के साथ वार्ता रद्द किये जाने के बाद तालिबान के प्रवक्ता ने कहा कि हमारी ओर से बातचीत के लिए हमारे दरवाजे खुले हुए हैं. अमेरिका हमारे अनगिनत लड़ाकों को मार चुका है और अब हमने एक अमेरिकी सैनिक को मार दिया तो वार्ता रद्द नहीं करनी चाहिए.

राष्ट्रवादी पत्रकारिता को समर्थन देने के लिए हमें सहयोग करेंनीचे लिंक पर जाऐं

राष्ट्रवादी पत्रकारिता को समर्थन देने हेतु हमे आर्थिक सहयोग करे. DONATE NOW पर क्लिक करे
DONATE NOW