Breaking News:

हिंदू लडकी अपहरण हुई, वो चुप थे.. फिर सिख लड़की का अपहरण हुआ तो भी वो चुप थे.. अब लग गया उनका भी नम्बर

अभी कुछ समय पहले पाकिस्तान में एक सिख लडकी का अपहरण हुआ था तब भारत ही नहीं पूरी दुनिया के सरदारों ने आवाज उठाई और इमरान खान की कट्टरपंथी सरकार को इस मामले में एक्शन लेने पर मजबूर कर दिया था . यद्दपि पाकिस्तान की भीख पर पलने वाले खालिस्तानी चरमपंथी इस मामले में खामोश रहे थे.. फिर उसके बाद एक हिन्दू लड़की का अपहरण हुआ और पायल ठाकुर को उसके घर से ही सबके आगे उठा ले गये थे .. पायल के घर वाले आज भी उसकी राह देख रहे हैं .

इन तमाम अपहरण और जबरन इस्लामीकरण की जिद में कोई था जो पाकिस्तान में अल्पसंख्यक होते हुए भी सब ख़ामोशी से देख रहा था तो वो था ईसाई वर्ग.. सम्भव है उसको अपने समर्थन में अक्सर खड़े हो जाने वाले यूरोपीय देशो पर विश्वास रहा हो लेकिन उनके विश्वास से कहीं आगे निकल गई पाकिस्तानी कट्टरता और अब अपहरण कर लिया गया है एक नाबालिग ईसाई बच्ची का जो मात्र 15 साल की है और उसको जबरन निकाह पढ़ा कर बना दिया गया है मुसलमान..

इस घटना के बाद इतना तो तय हो गया है कि पाकिस्तान में मुसलमानों को छोड़ कर बाकी किसी की भी बहन बेटी सुरक्षित नहीं है.. हर उसका नम्बर लग रहा है जो उनके मत या मजहब से नहीं है .. इसमें सबसे ज्यादा प्रताड़ित हिन्दू हैं लेकिन अब धीरे धीरे सभी उस चरमपंथ का शिकार हो रहे हैं .  ये घटना पाकिस्तान के पंजाब प्रांत की है जहाँ पर एक ईसाई लड़की के पिता ने आरोप लगाया है कि उनकी बेटी के स्‍कूल के प्रिंसिपल ने जबरन बेटी का धर्म परिवर्तन कर उसे इस्‍लाम कुबुलवाया है.

मिल रही जानकारी के अनुसार मुसलमान बना दी गई इस लड़की का नाम फाइरा है. पिता के अनुसार बेटी के स्‍कूल के प्रिंसिपल ने लाहौर से करीब 50 किमी दूर स्थित शेखपुरा जिले के एक मदरसे में ले जाकर बेटी का जबरन धर्म परिवर्तन कराया. पिता के अनुसार उनकी बेटी को जबरन मदरसे में ले जाकर बंद कर दिया गया. परिवार को उससे मिलने की इजाजत नहीं दी गई. कई सेक्युलर देशो में यही कार्य लव  जिहाद आदि की साजिश रच कर करने का आरोप लगाये जाते हैं .

Share This Post