इंडोनेशिया से मुस्लिम लडकी की फ्रेंड रिक्वेस्ट फेसबुक पर आने के बाद ख़ुशी से झूम उठा हरियाणा का भीम सिंह और पहुँच गया मिलने.. लेकिन अब हुआ “सच का सामना”


हरियाणा का भीम सिंह एक ऐसी दुनिया में रहता था जो जमीन से ज्यादा सोशल मीडिया पर थी और उसके चलते ही वो बुनने लगा था ऐसे सपने जो शायद साकार हो ही नहीं सकते थे . ऐसे तमाम लोग आज इसी प्रकार से दिग्भ्रमित रहते हैं और भटक कर किसी संकट में पड़ जाया करते हैं.. हरियाणा के भीम सिंह को भी जब इंडोनेशिया से एक महिला की फ्रेंड रिक्वेस्ट फेसबुक पर आई तो उसको लगा कि उसकी जिन्दगी संवर गई और अब वो अपना परिवार सोशल मीडिया के माध्यम से ही बसा लेगा..

कारसेवको का नरसंहार न्याय बताने वाले मुलायम ने आजम पर कार्यवाही को बताया अन्याय.. दिया सपाईयो को एक आदेश

लेकिन उसको पता नहीं था कि घर को बेचने के के साथ उसका धर्म तक त्यागने की नौबत आ जाएगी.. जिस सोशल मीडिया के माध्यम से भीम सिंह ने अपने जीवन के तमाम सुनहरे सपने बुन डाले थे अब उसी सोशल मीडिया के माध्यम से वही भीम सिंह लगा रहा है गुहार अपना जीवन बचाने की और वो गुहार है भारत सरकार से.. ध्यान देने योग्य है कि फेसबुक पर इंडोनेशिया की एक महिला ने अपने बच्चे की मदद के नाम पर हरियाणा के जींद मेंढाठरथ गांव के भीम सिंह को फंसाकर बंधक बना लिया है।

खाप पंचायतों पर तो शुरू हो जाती है बहस लेकिन बहराइच के जमशेद ने अपनी बहन के साथ जो किया उस पर ख़ामोशी क्यों ?

इतना ही नही , भीख मंगाने के उद्देश्य से वहां पर भीम सिंह के शरीर को काटा भी जा रहा है और उसकी जांघों पर नशीले इंजेक्शन लगाकर विकलांग बनाने का प्रयास किया जा रहा है. अपना धर्म फिर अपना धन जाने के बाद अब अपना जीवन संकट में देख कर भीम सिंह ने फेसबुक पर गुहार जैसी लगाते हुए अब अपनी पीड़ा को मार्मिक रूप से बयान किया है और लोगों से अपनी मदद की गुहार लगाई है। शुक्रवार को भीम के परिजनों ने सीटीएम, एसएसपी से मदद की गुहार लगाई है.

शायद कोई और होता तो रुतबे से रौंद देता सिपाही को, लेकिन ये थे IPS सुधीर कुमार, SSP गाजियाबाद

बताया कि इंडोनेशिया की महिला से फेसबुक पर दोस्ती थी। एक दिन महिला ने अपने बच्चे की फोटो डाली, जिसके नाक से खून बह रहा था। महिला ने भीम से मदद मांगी। भीम ने मलेशिया में काम करने के दौरान की सेविंग से 1-2 लाख रुपए महिला के खाते में डलवा दिए।
महिला ने फिर इंडोनेशिया आने को कहा। 2 माह पहले भीम सिंह टूरिस्ट वीजा पर चला गया। महिला के कहने पर 50 हजार रुपए 24 अगस्त को परिजनों ने मकान बेचकर जमा करवा दिए।

राष्ट्रवादी पत्रकारिता को समर्थन देने के लिए हमें सहयोग करें. नीचे लिंक पर जाऐं–


सुदर्शन के राष्ट्रवादी पत्रकारिता को आर्थिक सहयोग करे और राष्ट्र-धर्म रक्षा में अपना कर्त्तव्य निभाए
DONATE NOW

Share
Loading...

Loading...