बकरीद में नमाजियों के बीच गई इजरायल की पुलिस.. फिर जो मिला उसी को मारा क्योकि उन्होंने तोडा था एक कानून

एक ऐसा देश जहाँ नियम और कनून के साथ देश ही सर्वोपरि है , एक ऐसी जगह हो आकार में बहुत छोटा होने के बाद भी दुनिया में एक बहुत बड़ा मुकाम रखती है . एक केंद्र जहाँ से कई देश सीखते हैं देशभक्ति का जूनून वो जगह एक बार फिर से दुनिया भर में चर्चा में आ गई है क्योकि उसने नमाजियों के बीच में अपनी पुलिस भेज दी और जो जहाँ भी मिला उसको वही पीटा क्योकि वो तमाम लोग बार बार मना करने के बाद भी आदेशो का पालन नहीं कर रहे थे और ये बन चुकी थी उनकी मजबूरी .

ज्ञात हो कि बकरीद में नियमो को तोड़ते हुए भारत के कई हिस्सों में सडको पर नमाज पढ़ी गई थी और उसके चलते कई जगहों पर पुलिस तो कहीं हिन्दुओ से झडप भी हुई थी.. लेकिन इजरायल में ऐसी किसी भी हरकत की अनुमति नहीं थी .. जिस विवादित भूमि को इजरायल और फिलिस्तीन दोनों अपना बता रहे हैं उसी जगह पर मौजूद अल अक्सा मस्जिद पर जबरन नमाज़ पढने के लिए फिलिस्तीनी बकरीद के दिन जमा हुए थे .. जबकि इजरायल ने उन्हें वहां से दूर रहने का आदेश दिया था .

इजरायल ने वहां पर भारी पुलिस बल तैनात कर रखा था और किसी भी आपात स्थिति से सख्ती से निबटने का आदेश जारी किया था . फिलिस्तीनी नमाजियों को अल-अक्सा मस्जिद परिसर से हटाने के लिए इजरायल पुलिस ने आंसू गैस, रबर की गोलियां और साउंड ग्रेनेड से हमला किया। इजरायल पुलिस के आगे फिलिस्तीनी चिल्ला रहे थे कि : “हमारी आत्मा और खून से अक्साहम तुम्हें छुड़ा लेंगे।” पर पुलिस ने अपनी कार्यवाही जारी रखी  और उन्हें वहां से भागने पर मजबूर  कर दिया ..

फिलिस्तीन लिबरेशन ऑर्गनाइजेशन (PLO) के एक वरिष्ठ अधिकारी हनन अशरवी ने इज़राइल पर धार्मिक और राजनीतिक तनाव को भड़काने का आरोप लगाया। एक बयान में कहा, “इजरायल के कब्जे वाले अल-अक्सा मस्जिद परिसर का तूफान आज सुबह ईद की खुशी और आक्रामकता का काम करता है।”फलस्तीन के डाक्टरों के अनुसार इजरायल पुलिस के हमले में लगभग 14 नमाज़ी घायल है जिसमे एक की हालत गंभीर है।  मौके पर हुडदंग मचा रहे उन्मादियो के हिसाब से उनके 2 साथियों को गिरफ्तार कर के अपने साथ ले गई है इजरायली पुलिस ..

Share This Post