मुहर्रम के दिन कर्बला में मची भगदड़.. 35 मरे , 100 से ज्यादा घायल


अचानक ही वहां मच गई थी चीख पुकार और जिसे जिधर जगह मिली वो उधर ही बदहवास हो कर भागने लगा. ये जगह थी वो कर्बला जिसको मुसलमान अपने लिए मानते हैं एक एतिहासिक जगह.. किसी को कुछ समय में ही नहीं आ रहा था कि ये हो क्या रहा है और जब तक माहौल शांत हुआ तब तक लगभग 35 लाशें कुचली हुई जमीन पर पड़ी थीं और लगभग 100 के आस पास लोग चीखते और कराहते हुए दिखाई दे रहे थे .. तब तक प्रशासन भी वहां आ गया था ..

ये मामला है ईराक का और स्थान था कर्बला.. इसी कर्बला की याद आज तक मुसलमान रखते हैं और हर वर्ष मुहर्रम में मातम के दौरान इसको याद करते हैं . इस भगदड़ के बारे में इराकी स्वास्थ्य मंत्रालय के प्रवक्ता सायफ अल-बद्र के अनुसार यह घटना आशुरा की प्रमुख शिया परंपरा के दौरान हुई, जब कर्बला में इमाम हुसैन के मकबरे में एक साथ बिना अवरोध के ही कई हजार मुसलमानों को प्रवेश करने की अनुमति दे दी गई थी .. ये कर्बला ईराक की राजधानी बगदाद से लगभग 110 किलोमीटर दूरी पर स्थित है .

ईराकी स्वास्थ्य मंत्रालय के प्रवक्ता अल बद्र ने अपने बयान को आगे बढाते हुए कहा है कि “कर्बला भगदड़ में मरने वालों की संख्या बढ़कर 35 हो गई है और 100 अन्य घायल हुए हैं. घायलों में से 10 की हालत बेहद गंभीर है जिसके चलते अभी मरने वालों की संख्या में बढ़ोत्तरी हो सकती है.. वहां मौजूद प्रत्यक्षदर्शियो ने माना है कि वहां मृतको की संख्या सरकारी आंकड़ो के हिसाब से ज्यादा है.. मरने वालों में कई अलग अलग देशो में मुसलमान शामिल हैं ..


सुदर्शन के राष्ट्रवादी पत्रकारिता को आर्थिक सहयोग करे और राष्ट्र-धर्म रक्षा में अपना कर्त्तव्य निभाए
DONATE NOW

Share
Loading...

Loading...