आज़मगढ़ से तीन भाई शफकत, शमीम, फैयाज अपनेपन में सऊदी अरब गये थे कमाने… वादा था पैसे लाने का पर बनकर आये लाश

उत्तर प्रदेश के आज़मगढ़ के रहने वाले दो सगे भाई शफकत तथा शमीम और उनका रिश्तेदार भाई फैयाज सऊदी अरब में पैसा कमाने के लिए गये थे. ये सभी रियाद में एक अरबी शेख कफील के यहां काम करते थे. ये तीनों घर पर बोलकर गये थे कि वह सऊदी से पैसा कमाकर लायेंगे लेकिन उनकी लाश लौटेगी. आपको बता दें कि सऊदी अरब में काम करने वाले आजमगढ़ के इन तीन युवकों की हत्या की कर दी गई है.  सगे भाई रौनापार थाना क्षेत्र के जमीन रसूलपुर गांव अौर रिश्तेदार जीयनपुर के बासूपार बनकट का निवासी था.

मीडिया सूत्रों से मिली खबर के मुताबिक़, उनका शव रविवार को सऊदी अरब पुलिस ने बरामद किया. परिजनों ने अरब व्‍यापारी (कफील), जहां ये सभी काम करते थे, उस पर हत्या करने का आरोप लगाया है. बताया गया है कि जमीन रसूलपुर गांव निवासी 35 वर्षीय सफकत करीब दस साल से सऊदी अरब की राजधानी रियाद में रहता था. वह जिस व्यक्ति के यहां रहता था उसी से लोन पर पैसे लेकर उन्हीं के नाम से ट्रक खरीदा था. सभी किस्त चुकाने के बाद सफकत ट्रक को बेचना चाहता था. इसी बीच दो जनवरी को सफकत लापता हो गया. उसका फोन भी बंद हो गया. चार दिन तक कोई संपर्क न होने पर उसका भाई 32 वर्षीय शमीम परेशान हो गया. उसने अपने रिश्तेदार 40 वर्षीय फैयाज से सम्पर्क किया.

दोनो सफकत की तलाश में उस व्यक्ति के पास पहुंचे जिससे रुपये लेकर उसने ट्रक खरीदा था. शमीम व फैयाज की भी हत्या कर दी गई. इनका भी मोबाइल बंद हो गया. दो भाई व रिश्तेदार के लापता होने पर सउदी अरब में रह रहे सफकत के तीसरे भाई शौकत ने अन्य रिश्तेदारों के साथ मिलकर पुलिस व भारतीय दूतावास को मामले से अवगत कराया. पुलिस ने रिपोर्ट दर्ज कर जांच शुरू की तो पूरी घटना सामने आ गई. हत्या करने वाले व्यक्ति को भी गिरफ्तार कर लिया गया है. तीनों के शव क्षतविक्षत अवस्था में अलग-अलग स्थानों से बरामद किये गये हैं. शवों को डीएनए टेस्ट के लिए भेजा गया है. तीनों की ह्त्या की खबर मिलते ही उनके परिवार में कोहराम मचा हुआ है.

Share This Post