हमने अल्लाह से कहा है कि उन देशो में कोरोना का कहर बढाये जहाँ के लोग पूजते हैं मूर्ति - इस्लामिक स्टेट... आतंकवाद का नहीं पर वायरस का तय हुआ धर्म - Hindi News, हिंदी समाचार, Samachar, Breaking News, Latest Khabar -

Breaking News:

हमने अल्लाह से कहा है कि उन देशो में कोरोना का कहर बढाये जहाँ के लोग पूजते हैं मूर्ति – इस्लामिक स्टेट… आतंकवाद का नहीं पर वायरस का तय हुआ धर्म


ये बयान काफी हद तक उन उल जुलूस बयानों से मिलता है जो अब तक आप ने कुछ तथाकथित इस्लामिक उपदेशकों के मुह से सुने होंगे. ऐसे बयान भारत के भी कई हिस्सों में दिए गये लेकिन आख़िरकार ठीक उसी से मिलता जुलता बयान अब दुनिया के सबसे बड़े इस्लामिक आतंकी दल ISIS की तरह से आया है. इस बयान के बाद अब ये विचार और मंथन होने लगा है कि क्या इंसानों के बाद अब वायरसों का भी होने लगा है मत और मजहब और वो किसी खास धर्म को देख कर ही हमला करता है ?

विदित हो कि इस बार इस्लामिक स्टेट ने सीधे सीधे इस कोरोना वायरस को अल्लाह का उन लोगो और उस देश पर कहर घोषित किया है जिस देश में लोग मूर्तियों की पूजा करते हैं. यहाँ ये ध्यान देने योग्य है कि कोरोना वायरस के चलते ही इस्लामिक मुल्क ईरान और अरब देशो में कहर फैला हुआ है लेकिन उसके बाद भी इस्लामिक स्टेट ने ये बयान किस आधार पर और किस के लिए दिया है, ये विचार और मंथन का विषय जरूर बन गया है. इस बयान के खिलाफ अभी तक किसी बड़े मुस्लिम जानकार का विरोध भी नहीं आया है.

ISIS ने विज्ञप्ति जारी करके कहा कि खुदा ने खुद के बनाए देशों पर बेहद दर्दनाक कहर बरपाया है. ISIS ने दावा किया कि कोरोना वायरस मूर्ति पूजा करने वाले देशों को खुदा का जवाब है. आईएस ने खुदा से आह्वान किया कि वह अपने मानने वाले बंदों की रक्षा करे और नास्तिक देशों पर अपना कहर बरपाए।आईएस ने कहा, ‘हमने अल्‍लाह से कहा है कि यातना को और ज्‍यादा बढ़ाए तथा इससे अपने मानने वाले बंदों की रक्षा करे। अल्‍लाह अपने खिलाफ विद्रोह करने वालों को दंडित करे और जो उसकी बात मानते हैं, उनकी रक्षा करें।’


सुदर्शन के राष्ट्रवादी पत्रकारिता को आर्थिक सहयोग करे और राष्ट्र-धर्म रक्षा में अपना कर्त्तव्य निभाए
DONATE NOW

Share