कहीं बढ़ रही है कट्टरता तो कहीं समाप्त हो रहा उन्माद.. सऊदी अरब में नाईट क्लब खुलने की आहट

इस्लाम के जनक कहे जाने वाले मुल्क सऊदी अरब से एक चौंकाने वाली खबर आ रही है. ये खबर उन लोगों के लिए बेहद परेशान करने वाली है जो इस्लाम के नाम पर, मजहबी तालीम के नाम पर कट्टरता फैलाते हैं. मीडिया सूत्रों से मिली खबर के मुताबिक़, सऊदी अरब में नाईट क्लब तथा जुआ खाने खोले जाने की तैयारी चल रही है. बताया जा रहा है कि सऊदी अरब के क्राउन प्रिंस मोहम्मद बिन सलमान नाईट क्लब तथा जुआ खाना खोलने की अनुमति दे सकते हैं.

शाही खानदान के बारे में नये- नये रहस्यों से पर्दा उठाने वाले प्रसिद्ध ट्विटर हैंडलर ‘ मुजतहिद’ का कहना है कि सऊदी अरब के क्राउन प्रिंस अगले कुछ हफ्तों के दौरान इस देश में शराब की बिक्री और जुआखाने खोलने का आदेश दे सकते हैं. मुजतहिद ने ट्विट किया है कि बिन सलमान, अपने सुधारवादी कार्यक्रम के अंतर्गत सऊदी अरब में शराब की बिक्री और कैसिनो खोलने की अनुमति देने का इरादा रखते हैं. मुजतहिद के ट्विट के अनुसार बिन सलमान अपने पश्चिमी सुधारवादी कार्यक्रम के दूसरे चरण को लागू करने का इरादा रखते हैं जिसमें शराब की बिक्री और बड़े बड़े होटलों में शराब पीने की आज़ादी और कैसीनों , नाइट क्लब और जुआखाने खोलना शामिल है.

बीस लाख फालोअर वाले इस ट्विटर हैंडिल से कहा गया है कि इस समय भी सऊदी अरब के कई होटलों में शराब परोसी जाती है और गुप्त रूप से नाइट क्लब भी चल रहे हैं लेकिन अब यह सब कुछ कानूनी होने जा रहा है. मुजतिहद के 20 लाख से अधिक फॉलोअर हैं. सऊदी अरब के क्राउन प्रिंस बिन सलमान ने जनवरी 2018 में ब्लूमबर्ग के साथ एक वार्ता में शराब के बारे में विवादस्पद बयान दिया था. उन्होंने कहा था कि सऊदी अरब के प्रस्तावित नये आधुनिक नगर ‘ न्योन ‘ में सारे नियम सऊदी अरब के रहेंगे बस दो प्रतिशत नियमों को लागू नहीं किया जाएगा. उनके इस बयान के मीडिया में खूब चर्चा हुई थी और यह अनुमान लगाया गया था कि सऊदी अरब के इस नये नगर में शराब पर प्रतिबंध नहीं होगा.

इसी मध्य सऊदी अरब से संबंधित एक न्यूज़ वेबसाइट ने सोशल मीडिया और ट्विटर पर प्रकाशित कई तस्वीरों का उल्लेख करते हुए लिखा था कि सऊदी अरब के कई होटलों में गुपचुप रूप से शराब परोसी जाती है. इस रिपोर्ट में कहा गया था कि सऊदी समाज में सांस्कृतिक बदलाव बड़ी तेज़ी से भयानक रूप में आगे बढ़ रहा है. ज्ञात हो कि सऊदी के क्राउन प्रिंस मोहम्मद बिन सलमान अपने मुल्क में कट्टरता को कम करने के लिए वो तमाम सुधारवादी नियम लागू कर रहे हैं, जिन्हें अब तक इस्लामिक जगत में बैन माना जाता रहा है.

Share This Post