ब्रेंटन टैरेंट ने जो सोचा भी नहीं था वो अब शुरू हुआ न्यूजीलैंड में .. पहले प्रधानमन्त्री ने पहना स्कार्फ और अब शुरू हुआ कुछ और भी

न जाने किस मकसद ने आस्ट्रेलिया के हमलावर ने न्यूजीलैंड की अल नूर मस्जिद पर हमला किया . उसके इरादे बेहद खूनी थे और इतना तो तय था कि वो न सिर्फ खून बहाना चाहता था बल्कि एक दहशत भी फैलाना चाहता था वहां के मुस्लिमों के मन में . अदालत में उसका हंसता चेहरा भी इस बात का प्रमाण था कि वो बाकी अन्य लोगों को भी अपनी तरफ से एक संदेश देना चाहता था .. लेकिन अब जो कुछ भी हुआ न्यूजीलैंड में वो उसकी सोच से एकदम अलग और न्यूजीलैंड वालों के लिए भी एकदम नया है .

ब्रेंटन टैरेंट ने जो सोचा भी नहीं था वो अब शुरू हुआ न्यूजीलैंड में .. पहले प्रधानमन्त्री ने पहना स्कार्फ और अब शुरू हुआ कुछ और भी

ज्ञात हो कि बदले न्यूजीलैंड में सबसे पहले तो वहां की प्रधानमन्त्री जैसिंडा स्कार्फ में दिखी थी, फिर उसके बाद न्यूजीलैंड में हथियरों की बिक्री पर लगाई थी बहुत बड़ी सख्ती और पाबंदी .. लेकिन अब उस से भी कहीं आगे बढ़ कर उठाया है कदम . विदित हो कि दुनिया को हिला कर रख देने वाली घटना घटने के बाद न्यूज़ीलैंड की प्रधानमंत्री जैसिंडा अर्डर्न के आदेश पर क्राइस्टचर्च मस्जिद हमले के हफ़्ते पूरे होने पर पूरे देश में मौन रख कर मारे गये मुसलमानों को २ मिनट मौन रख कर श्रद्धांजलि दी गयी .

भगवान जगन्नाथ की मूर्ति हाथों में देख आग बबूला हुई कांग्रेस जबकि कई अन्य मजहबी पोशाकों में मांग रहे हैं वोट

इतना ही नहीं न्यूजीलैंड की प्रधानमंत्री अर्डर्न ने कहा था कि पूरे देश में सरकारी टीवी और रेडियो पर जुमे की नमाज़ पर सीधा प्रसारण किया जाएगा, ताकि मुसलमानों को अपने अकेले होने का अहसास ना हो सके. उन्होंने कहा था कि हम सब उनके साथ हैं और मुसलमान हमारे हैं. प्रधानमंत्री अर्डर्न भी इसमें शामिल होने के लिए अल-नूर मस्जिद के पास हुए आयोजन स्थल पर पहुंचीं और उन्होंने मुसलमानों के लिए कहा कि पूरा न्यूज़ीलैंड आपके साथ  हैं.”

2030 से घटने लगेगी चीन की आबादी.. कड़े जनसंख्या नियंत्रण के कानून से मजबूती की तरफ चीन

राष्ट्रवादी पत्रकारिता को समर्थन देने हेतु हमे आर्थिक सहयोग करे. DONATE NOW पर क्लिक करे
DONATE NOW