हमारा पैसा आतंकियों को पालने पोषने के लिए नहीं है कह कर अमेरिका ने पाकिस्तान को नहीं दी भीख


 आतंकवाद का जनक पाकिस्तान अब भुखमरी की कगार पर पहुंचने को वाला है। क्यूंकि अमेरिकी सरकार ने पाकिस्तान को दी जाने वाली 25 करोड़ 50 लाख डॉलर की सहायता राशि को बंद करने का मन बना लिया है। कई बार अमेरिका द्वारा पाकिस्तान को कड़ी हिदायत देने के बाद भी पाकिस्तान ने अपनी सरजमीं का प्रयोग लगातार आतंकवादियों को सुबिधा पहुंचाने में किया है।

 ट्रंप प्रशासन आतंकवादी संगठनों के खिलाफ पाकिस्तान द्वारा कार्रवाई ना किए जाने से असंतुष्ट है।

ट्रंप प्रशासन में इस बात को लेकर आंतरिक बहस छिड़ी हुई है। अमेरिका और पाकिस्तान के बीच संबंध तब से तनावपूर्ण बने हुए है जब राष्ट्रपति ने घोषणा की थी कि पाकिस्तान ”अराजकता, हिंसा और आतंकवाद फैलाने वाले लोगों को पनाहगाह देता है।

पाकिस्तान को वर्ष 2002 से 33 अरब डॉलर से ज्यादा की सहायता राशि देने वाले अमेरिका ने अगस्त में कहा था कि जब तक पाकिस्तान आतंकवादी समूहों के खिलाफ और अधिक कार्रवाई नहीं करता तब तक सहायता राशि बिलकुल नहीं दी जाएगी ।

अमेरिकी अधिकारियों ने कहा कि अंतिम निर्णय आगामी सप्ताहों में लिया जा सकता है।”

सूत्रों के मुताबिक पाकिस्तान में सक्रिय आतंकवादी नेटवर्कों के खिलाफ ट्रंप प्रशासन गंभीरता से विचार कर रहा है। यदि पाकिस्तान ने आतंकवाद के खिलाफ कार्रवाई ना करने पर असंतोष के रूप में 25 करोड़ 50 लाख डॉलर की सहायता राशि रोकी जाए। पाकिस्तान की सेना ने बृहस्पतिवार को अमेरिका को उसकी सरजमीं पर सशस्त्र समूहों के खिलाफ एकतरफा कार्रवाई करने की संभावना के खिलाफ चेतावनी दी थी।


सुदर्शन के राष्ट्रवादी पत्रकारिता को आर्थिक सहयोग करे और राष्ट्र-धर्म रक्षा में अपना कर्त्तव्य निभाए
DONATE NOW

Share