जिस पाकिस्तान के साथ बहिष्कार के समय सेक्यूलर श्रीलंका ने खेला था मैच.. अब उसी पाकिस्तान ने दिया श्रीलंका को ये रिटर्न

ये वो समय था जब मुंबई आतंकी हमलों के बाद पूरी दुनिया ने पाकिस्तान का बहिष्कार किया तथा पाकिस्तान में जाकर क्रिकेट खेलने से इनकार कर दिया था तब श्रीलंका ने कथित सेक्यूलरिज्म का परिचय देते हुए अपनी क्रिकेट टीम को पाकिस्तान क्रिकेट खेलने के लिए पाकिस्तान के दौरे पर भेजा था. अब उसी पाकिस्तान ने श्रीलंका को इसका रिटर्न गिफ्ट दिया है. बता दें कि श्रीलंका आतंकी हमले में पाकिस्तान का हाथ सामने आ रहा है.

खुलने लगी श्रीलका आतंकी हमले की परतें.. सामने आ रहा पाकिस्तानी कनेक्शन

रविवार को जब पूरी दुनिया के ईसाईयों ईस्टर पर्व को सेलिब्रेट कर रहे थे..तभी अचानक से भारत के पड़ोसी मुल्क श्रीलंका से ऐसी खबर सामने आई, उससे न सिर्फ श्रीलंका बल्कि पूरी दुनिया दहल गई. ईस्टर पर श्रीलंका की राजधानी कोलंबो के चर्चों तथा होटलों में सिलसिलेवार 8 सीरियल बम ब्लास्ट हुए. कोलंबो से निकलने वाली लोगों की चीखें दुनियाभर में सुनाई दी. इस आतंकी हमले में 290 लोगों की जान चली गई तथा 500 से ज्यादा लोग घायल हो गये.

एक इस्लामिक मुल्क ने रोहिंग्याओं के खिलाफ बुलंद की आवाज तथा बोला- “रोहिंग्या, तुमको यहाँ से जाना ही होगा”

श्रीलंका आतंकी हमले का शक मुस्लिम संगठन नेशनल तौहीद जमात पर है. इस बीच पाकिस्तान के एक नेता के खुलासे से दुनिया भर में हड़कंप मच गया है. निर्वासित पाकिस्तानी नेता और मुत्ताहिदा कौमी मूवमेंट के संस्थापक अलताफ हुसैन ने श्रीलंका आतंकी हमले का जिम्मेदार पाकिस्तान को ठहराया है. अलताफ हुसैन ने दावा किया है कि श्रीलंका में हुए अलग-अलग धमाकों में पाकिस्तानी सेना और पाकिस्तान की मुख्य खु़फ़िया एजेंसी आईएसआई का हाथ है.

एक चेतावनी भारत ने पहले ही दी थी सेक्यूलर श्रीलंका को.. लेकिन अब वो आधिकारिक रूप से बोला कि- “काश हम मान लिए होते”

हुसैन ने एक प्रेस रिलीज़ जारी कर कहा कि संयुक्त राष्ट्रीय संगठन के सेक्रेटरी जनरल और सभी लोकतांत्रिक देशों से कहा है कि कोलंबो में चर्चों और होटलों में हुए हमलों के पीछे पाकिस्तानी सेना और आईएसआई का हाथ होने से इंकार नहीं किया जा सकता. दुनियाभर में आतंकवाद की हरेक वारदात की नींव पाकिस्तान में ही रखी गई थी. अलताफ़ हुसैन ने कहा कि वह श्रीलंका में हुए बम धमाकों की कड़ी निंदा करते हैं. हुसैन ने कहा कि चरमपंथ अब वैश्विक तौर पर फैलता जा रहा है. हमें इसे परास्त करने के लिए एक एजेंडे के साथ खड़ा होना होगा.

पीएम मोदी के आगे दुनिया नतमस्तक.. सात अंतरराष्ट्रीय पुरस्कार पाने वाले भारत के पहले प्रधानमंत्री

राष्ट्रवादी पत्रकारिता को समर्थन देने व हमें मज़बूत करने के लिए आर्थिक सहयोग करें।

Paytm – 9540115511

Share This Post