धारा 370 पर भारत के कुछ नेताओं की ही भाषा बोला पाकिस्तान.. शब्द भी वही और अंदाज भी वही

आखिर ऐसा क्यों होता है कि भारत के कुछ नेताओं के शब्द तथा सोच आतंकी मुल्क पाकिस्तान से मिलते हैं? आखिर क्यों भारत के कुछ नेता वही चाहते हैं जो आतंकी मुल्क पाकिस्तान चाहता है? वही पाकिस्तान जो हिंदुस्तान में अराजकता, आतंक फैलाता है तथा भारतमाता के मणिमुकुट कश्मीर को भारत से अलग करने के नापाक मंसूबे पाले बैठा है? एक बार फिर पाकिस्तान ने वही भाषा बोली है जो भारत के कथित सेक्यूलर नेता बोल रहे हैं.. अर्थात भारत के नेताओं की भाषा पाकिस्तान को पसंद आ रही है. सवाल ये है कि आखिर ये रिश्ता क्या कहलाता है?

सीमा के सैनिको जैसे ही हालात में ड्यूटी देते हैं UP के चंदौली जिले में चकरघट्टा थाने के पुलिसकर्मी.. साबुन भी लेना है तो 30 किलोमीटर दूर जाइये

खबर के मुताबिक़, पाकिस्तान ने कहा कि वह कश्मीर में भारतीय संविधान के अनुच्छेद 370 को रद्द किया जाना स्वीकार नहीं करेगा क्योंकि यह संयुक्त राष्ट्र के प्रस्तावों का उल्लंघन है. पाकिस्तान ने कहा है कि अगर भारत ने कश्मीर से 370 हटाया तो ठीक नहीं होगा. बता दें कि कांग्रेस पार्टी ने अपने घोषणा पत्र में वादा किया है वह कश्मीर से 370 नहीं  हटाएगी. इसके साथ ही अन्य कई दल भी ऐसा  ही बोल रहे हैं. लेकिन बीजेपी ने कहा है वह 370 हटाने के लिए प्रतिबद्ध है. हाल ही में बीजेपी अध्यक्ष अमित शान ने कहा था कि राज्यसभा में बहुमत होने दो, हम अपना वादा पूरा करेंगे.

मुख्यमंत्री की सभा में आये लोग मुख्यमंत्री के ही खिलाफ बैठ गये धरने पर.. क्योंकि नहीं मिले थे पैसे

पाकिस्तान के विदेश मंत्रालय के प्रवक्ता मोहम्मद फैसल ने कश्मीर में अनुच्छेद 370 को रद्द किए जाने के मुद्दे पर शुक्रवार को संवाददाताओं से कहा कि यह संयुक्त राष्ट्र के प्रस्तावों का उल्लंघन होगा. उन्होंने कहा, “भारतीय संविधान के अनुच्छेद 370 को खत्म करना संयुक्त राष्ट्र के प्रस्तावों का उल्लंघन है. हम इसे किसी भी परिस्थिति में स्वीकार नहीं करेंगे और कश्मीर के लोग भी इसे स्वीकार नहीं करेंगे.”

“तबाह होने के कगार पर है पाकिस्तान”.. ये दावा किसी भारतीय का नहीं बल्कि खुद पाकिस्तानी मंत्री का है

Share This Post