चीन के निशाने पर मुस्लिम मर्दों के बाद अब मुस्लिम महिलाएं… भरे बाजार चीन की पुलिस ने वो किया जो किसी ने सोचा था

चीन की पहिचान हमेशा से  ही एक ऐसे मुल्क की रही है तो चीन में इस्लामिक अनुयाइयों के खिलाफ कड़े कानून के लिए माना जाता है. चीन का साफ़ कहना है कि चीन में रहना है कोई मजहबी कानून नहीं बल्कि चीन के कानून को मानना ही पडेगा और अगर कोई ऐसा नहीं करता है तो चीन उसको वो सजा देता है कि देखने वाले की भी रूह काँप जाए. अब मुस्लिम महिलाओं के खिलाफ चीन ने जो कार्यवाही की है, उसे जानकर आप भी आश्चर्य में पड़ जाएंगे तथा एक बारगी तो चीन की तारीफ़ किये बिना नहीं रह सकेंगे.

आपको बता दें कि पूर्व तुर्किस्तान में चीन की पुलिस द्वारा उइगुर मुस्लिम महिलाओं के लंबे कपड़े काटे जा रहे हैं. पूर्व तुर्किस्तान में जिसे शिनजियांग के नाम से भी जाना जाता है, वहां चीन की पुलिस राह में चलती उइगुर मुस्लिम महिलाओं के कपड़े कैंची से काट रही है. डॉक्यूमेंटिंग अप्रेशन अगेंस्ट मुस्लिम (डीओएएम) संगठन के मुताबिक चीन प्रशासन के द्वारा ऐसा इसलिए किया जा रहा है क्योंकि उन्हें लगता है कि उइगुर मुस्लिम महिलाओं के कपड़े काफी ज्यादा लंबे हैं. महिलाओं के कपड़े काटे जाने की कुछ तस्वीरें भी सामने आई हैं, जिनमें दिख रहा है कि जिन महिलाओं के कपडे़ कमर के नीचे थोड़े लंबे हैं, उनके कपड़े बीच सड़क पर ही काटे जा रहे हैं. बता दें कि पूर्व तुर्किस्तान मध्य एशिया का एक ऐतिहासिक इलाका है, लेकिन वर्तमान में इस पर जनवादी गणतंत्र चीन का नियंत्रण है और इसे शिनजियांग प्रांत के नाम से भी जाना जाता है. यह इलाका मुस्लिम बहुल इलाका है.

चीन शिनजियांग प्रांत में मुसलमानों पर प्रतिबंध लगातार सख्त करते जा रहा है। कुछ दिनों पहले चीन ने स्कूली बच्चों के किसी भी तरह के धार्मिक कार्यक्रम में हिस्सा लेने पर रोक लगा दी थी. शिक्षा विभाग ने जनवरी में एक नोटिस जारी किया था, जिसमें सर्दियों की छुट्टी के दौरान बच्चों के धार्मिक स्थलों में प्रवेश पर प्रतिबंध लगाने को कहा गया था. चीन सरकार ने प्रांत में इस्लामी कट्टरपंथ पर लगाम लगाने के अभि‍यान के तहत वीगर मुस्लिमों को ‘असामान्य’ रूप से लंबी दाढ़ी रखने और सार्वजनिक स्थानों पर नकाब लगाने से रोक दि‍या था. शिनजियांग प्रांत उइगुर मुस्लिम बहुल इलाका है. इस क्षेत्र से कई लोगों के आतंकी संगठनों में शामिल होने की खबरें आती रही हैं जो चीन को बिलकुल स्वीकार नहीं है.

Share This Post