कट्टरपंथ की आहट पर तेजी से बदल रहा है यूरोप .. एक और देश ने बुर्के पर लगाया बैन


लगातार आतंकी हमलो से घायल होता यूरोप अब सम्भलने लगा है और सबसे पहले जहाँ हर यूरोपीय देश ने अपनी सीमाओं पर भारी सुरक्षा बल लगा कर सीरिया और इराक आदि से भाग आकर आ रहे शरणार्थियों को एकदम से रोका है वहीँ अब धीरे धीरे उन शरणार्थियों को बाहर निकालने के साथ साथ और भी जरूरी एहतियातन कदम उठाने शुरू कर दिए हैं . जर्मनी , फ्रांस , अमेरिका , इंग्लैण्ड , बेल्जियम आदि के बाद अब आतंक पर सख्त हुआ है नीदरलैंड .. नीदरलैंड वो देश है जो अभी बड़े आतंकी हमलो से बचा हुआ है और यहाँ के विपक्ष के नेता गीर्ट विल्डर्स दुनिया के शीर्ष इस्लाम विरोधी चेहरे के रूप में जाने जाते हैं . 

ज्ञात हो की तेजी से बदल रहे यूरोप के परिदृश्य में आतंकी हमलो से घायल होते फ्रांस और बेल्जियम के बाद एक और यूरोपीय देश नीदरलैंड ने अपने देश में बुर्का बैन कर दिया है। मंगलवार को नीदरलैंड की संसद के ऊपरी सदन ने सार्वजनिक स्थानों पर चेहरा ढ़कने वाले कपड़ों पर प्रतिबंध लगाने को मंजूरी दे दी है। मुस्लिम संगठनों ने नीदरलैंड सरकार के इस फैसले का व्यापक रूप से विरोध किया है लेकिन नीदरलैंड अपने इस फैसले पर अडिग लग रही है . इस फैसले के पीछे गीर्ट विल्डर के प्रयास भी माने जा रहे हैं जिन्होंने लगातार इस्लाम विरोधी अभियान जारी रखा जिसे वहां की जनता ने व्यापक रूप से स्वीकार भी किया . 

नए प्रतिबंधो के बाद अब बुर्के को सार्वजनिक परिवहन, शिक्षा संस्थान, सरकारी भवन और स्वास्थ्य संस्थानों जैसे हॉस्पिटल आदि में नहीं पहना जा सकेगा अगर कोई इस नियम का उललंघन करता है तो पुलिस को पूरा अधिकार होगा उसको गिरफ्तार करने का . इतना ही नहीं , अपने व्यक्तिगत घरो आदि में बुर्का पहने किसी महिला को पुलिस पहचान के लिए चेहरे से  हटवा सकती है। बुर्के के खिलाफ ऐसा कडा कदम फ्रांस, बेल्जियम, डेनमार्क, ऑस्ट्रिया और बुल्गारिया पहले ही उठा चुके हैं। इन देशों में सार्वजनिक स्थलों पर चेहरा ढ़कना बैन है। इसके अलावा स्पेन और इटली के कुछ हिस्सों में भी चेहरा ढकने पर पाबंदी है। वहीं जर्मनी में जज, सिविल सर्वेंट और सैनिक जरूरत पड़ने पर बुर्के को हटवा सकते हैं।


सुदर्शन के राष्ट्रवादी पत्रकारिता को आर्थिक सहयोग करे और राष्ट्र-धर्म रक्षा में अपना कर्त्तव्य निभाए
DONATE NOW

Share
Loading...

Loading...