नाईजीरिया में निशाना बना चर्च.. 18 इसाई उतारे गये मौत के घाट


वो कौन सी सोच है जो निर्दोष लोगों की जान लेने में गर्व महसूस करती है, लोगों की जान लेने पर जश्न मनाती है? वो कौन सी सोच है कभी हिंदुस्तान में मंदिरों पर हमला करके हिन्दू श्रद्धालुओं की जान लेती है तो वहीं ये सोच म्यांमार तथा श्रीलंका में निर्दोष बौद्धों को मौत के घाट उतार देती है? ये सोच कभी चर्च पर हमला करके लोगों को मारकर जश्न मनाती है तो कभी सीरिया, अफगानिस्तान में लोगों की लाशें बिछा देती है.

अब इसी दहशतगर्दी फैलाने वाली अक्रांताई सोच का शिकार नाईजीरिया का एक चर्च हुआ है जिस पर हमला करके 18 ईसाईयों को मौत के घाट उतार दिया गया. जानकारी के मुताबिक, आज सुबह मध्य नाइजीरिया में स्थित एक चर्च पर आक्रांताओं ने हमला किया जिसमें 2 पादरियों समेत 18 से अधिक लोगों की मौत की संभावना जताई गई है. बेन्यू प्रान्त के पुलिस आयुक्त फतई आवोसेनी ने मुकुर्दी में कहा कि करीब 30 संदिग्ध लोगों ने म्बालोम(समुदाय) पर हमला कर प्रार्थना कर रहे लोगों और 2 पादरियों की जान ले ली. उन्होंने कहा कि आक्रांताओं ने एक शव को दफनाने के समारोह के आयोजन स्थल को निशाना बनाया और चर्च पर भी हमला किया जहां दो पादरी प्रार्थना करे रहे थे, जिसमें कम से कम 18 लोग मारे लगये हैं.


सुदर्शन के राष्ट्रवादी पत्रकारिता को आर्थिक सहयोग करे और राष्ट्र-धर्म रक्षा में अपना कर्त्तव्य निभाए
DONATE NOW

Share