महिलाओं के सम्मान की झूठी दुहाई की पोल तब खुली जब अरब की राजकुमारी ने मांगी अमेरिका से पनाह

गुलामी क्या होती है, अरब देशों में महिलाओं की वास्तविक स्थिति क्या होती है ये दुबई के शासक शेख मोहम्मद बिन रशीद अल मक्तूम की बेटी तथा दुबई की राजकुमारी शेख लतीफा ने बताई है. दुबई के शासक शेख मोहम्मद बिन राशिद अल मकतौम की बेटी ने दावा किया है कि वह सामान्य जिंदगी जीने के लिए देश छोड़कर फरार हो गई है क्योंकि पिछले तीन साल से उसे अस्पताल में बंधक बनाकर रखा जा रहा था. महिलाओं के सम्मान की दुहाई देने वाले अरब देशों की ये स्थिति है कि वहां की राजकुमारी को देश छोड़कर भागना पड़ा है.

अरब की राजकुमारी शेख लातिफा ने ब्रिटिश मीडिया को एक सन्देश भेजा है कि काफी समय से उसको गुलाम बनाकर बंधक बनाकर रखा जा रहा था. राजकुमारी ने अपने सन्देश में बताया है कि दुबई में उसको कोई आजादी नहीं है. इसलिए उसने देश छोड़ दिया है तथा अब वह अमेरिका में बसना चाहती है तथा अमेरिका से इसके लिए मदद मांग रही है. ब्रिटिश मीडिया को भेजे अपने संदेश में 33 वर्षीय राजकुमारी शेख लातिफा का दावा है कि उसने 16 साल की उम्र में एक बार देश छोड़कर भागने की कोशिश की थी. इसलिए तब से सब उसे संदेह की निगाह से देखते हैं। उसे आजादी से जिंदगी जीने की इजाजत ही नहीं है.

अपने सन्देश में राजकुमारी शेख लातिफा ने कहा है कि यहाँ महिलाओं की स्थिति काफी बदतर है इसलिए उसने साल 2000 में भी देश छोड़ने का प्रयास किया लेकिन वो कामयाब नहीं हो पायी तथा इसके बाद से उसके देश छोड़कर बाहर जाने पर पाबंदी है. वह गाड़ी नहीं चला सकती है और 24 घंटे उस पर निगाह रखी जाती है तथा उसको एक अस्पताल में कैद करके रखा जा रहा था. राजकुमारी लातिफा ने ये भी बताया है कि उसके पिता शेख मोहम्मद की छह बीबियां और 30 बच्चे हैं. वह उनकी कम मशहूर पत्नी की तीन बेटियों में से एक है. उसका दुबई में कोई सामाजिक जीवन भी नहीं है. फरार राजकुमारी की मानें तो पहले भी दुबई की दो राजकुमारियां देश छोड़कर भाग चुकी है. उनसे से एक बाद में पकड़ ली गई थी.

राजकुमारी शेख लातिफा ने कहा है कि यहाँ महिलाओं  को जीवन जीने की कोई आजादी नहीं हैं. यहाँ महिलाएं अपनी मर्जी से कुछ नहीं कर सकती हैं. उनको दास बनाकर गुलामों की तरह रखा जाता है और उसने आजाद जिन्दगी जीने के लिए देश छोड़ा है और अब वह दुबई में नहीं बल्कि अमेरिका में रहना चाहती है.  इसके लिए उसने अमेरिका में एक वकील से संपर्क किया है ताकि वो सुरक्षित अमेरिका में रह सके और उसको कोई वापस दुबई न ले जा सके. 
ये है इस्लामी मुल्क दुबई में महिलाओं की वास्तविकता कि जब एक वहां के शासक शेख की बेटी को इस तरह गुलाम बनाकर रखा जाता है तब वहां आम महिलाओं की स्थिति कितनी भयानक होगी कितनी मुश्किल होगी इसकी कल्पना ही की जा सकती है.

Share This Post