Breaking News:

चीन से भी आगे निकला ये देश मुस्लिमों पर पाबंदी में.. फरमान- “व्हाट्सएप्प पर पढो नमाज, लाउडस्पीकर बजाया तो खैर नहीं”

याद करो जब सोनू निगम ने कहा था कि लाउडस्पीकर पर अजान से ध्वनि प्रदूषण होता है तो देश में कैसा भूचाल आ गया था. सोनू निगम के खिलाफ फतवे तक जारी हो गये थे, देशभर में सोनू निगम के खिलाफ प्रदर्शन हुए थे. हालाँकि दुनिया में चीन एक ऐसा मुल्क है जो इस्लामिक रीति-रिवाजों पर कई प्रतिबन्ध लगा चुका है, और आश्चर्य इस बात का है कि चीन के खिलाफ कोई मौलाना हो या मौलवी आवाज तक नहीं उठाते. और अब दुनिया का एक मुल्क ऐसा भी है जो मुस्लिमों पर पाबंदी में चीन से भी आगे निकल गया है.

खबर के मुताबिक़ अफ्रीकी देश घाना में लाउडस्पीकर पर अजान पढ़ने पर प्रतिबन्ध लगा दिया गया है. घाना की सरकार का कहना है कि अजान के लिए लाउडस्पीकर स्पीकर का प्रयोग न किया जाये क्योंकि इससे ध्वनि प्रदूषण बढ़ रहा है.  घाना सरकार का कहना है कि मस्जिदों में अजान के लिए लाउडस्पीकर की जगह वॉट्सऐप का इस्तेमाल किया जाए, ताकि ध्वनि प्रदूषण से बचा जा सके. घाना की सरकार के अनुसार घाना में मस्जिदों और चर्च से के लाउडस्पीकरों से आती आवाज से ध्वनि प्रदूषण में और इजाफा दर्ज किया गया है जिस पर रोक लगाना जरूरी है.

घाना के पर्यावरण मंत्री क्वाबेना फ्रिम्पोंग-बोटेंग ने कहा- “नमाज के लिए टेक्स्ट मैसेज या वॉट्सऐप के जरिये क्यों नहीं बुलाया जा सकता है? इसलिए मस्जिद के इमाम को बोला गया है कि  वह नमाज के लिए सभी को वॉट्सऐप मैसेज भेजेगा तथा लाउडस्पीकर का प्रयोग नहीं करेगा.” मंत्री ने आगे कहा- “मुझे लगता है कि इससे ध्वनि प्रदूषण में कमी आएगी. यह विवादास्पद हो सकता है लेकिन घाना के पर्यावरण के लिए ये काफी जरूरी है क्योंकि ध्वनि प्रदूषण के कारण हृदय रोग, नींद की बीमारी समेत कई छोटी और बड़ी बीमारियां होने का खतरा बना रहता है तथा अजान के लाउडस्पीकर से भी काफी ध्वनि प्रदूषण बढ़ रहा है.

Share This Post