Breaking News:

हैरान है इजरायल क्योंकि संयुक्त राष्ट्र में भारत खड़ा हुआ फिलिस्तीन के साथ, हर मुद्दे पर समर्थन कर रहा अमेरिका भी चौंका

चीन के खिलाफ डोकलाम मुद्दे पर और पाकिस्तान के खिलाफ आतंकवाद के मुद्दे पर जो अमेरिका और इजरायल खुल कर भारत के साथ खड़े थे वो भारत के इस फैसले से चौंक से गये हैं . भारत सरकार ने आख़िरकार येरुशलम को इजरायल की राजधानी घोषित करने एक अमेरिकी फैसले का संयुक्त राष्ट्र संघ में विरोध किया और फिलिस्तीन के समर्थन में खड़ा हो कर दुनिया भर के मुसलमानों में भले ही वाह वाही लूटी लेकिन इजरायल और अमेरिका इस फैलसे से हतप्रभ से हैं .\

इस मुद्दे पर जम्मू एवं कश्मीर की मुख्यमंत्री महबूबा मुफ्ती ने बेहद ख़ुशी जताई है और शुक्रवार को कहा कि उन्हें जेरूसलम को इजरायल की राजधानी के तौर पर मान्यता देने के अमेरिका के फैसले के खिलाफ संयुक्त राष्ट्र में भारत के वोट देने पर फक्र है। महबूबा ने ट्वीट कर कहा, यह जानकर बहुत गर्व हुआ कि भारत ने जेरूसलम को इजरायल की राजधानी के रूप में मान्यता देने के फैसले को खारिज करने वाले प्र्रस्ताव पर 100 देशों के साथ वोट किया है। 

भारत के विभिन्न हिस्सों से आ रही प्रतिक्रिया में कहा जा रहा है की यह वोट फिलीस्तीन को लेकर हमारे पक्ष और समर्थन को दर्शाता है। जम्मू एवं कश्मीर इजरायल-फिलीस्तीन विवाद को लेकर पहले से ही भावुक प्रतिक्रिया देता रहा है। नरेन्द्र मोदी सरकार का ये फैसला म्यांमार के रोहिंग्याओं को घर बना कर देने के फैसले के बाद आया है जिस से शायद भाजपा को आशा है कि मुस्लिम वर्ग उनसे जुड़ेगा . कुछ वर्ष पहले मोदी सरकार ने ही फिलिस्तीन में इजरायली टैंको द्वारा तबाह किये गये घरों के पुनर्निर्माण के लिए सहयोग भी दिया था जिसे इजरायल ने कहीं न कहीं भुला दिया था लेकिन ये मामला कदाचित भारत और इजरायल के रिश्तों में असर डाल सकता है . भारत का ये फैसला डोनाल्ड ट्रंप द्वारा इस्लामिक आतंकवाद के खिलाफ छेड़े गये महाभियान के लिए एक बड़ा झटका माना जा रहा है . 

Share This Post