Breaking News:

भारत के बाद अब एमनेस्टी के निशाने पर उत्तर प्रदेश… एक और झूठी रिपोर्ट से बदनाम कर रही श्रीराम, श्रीकृष्ण की इस पावन भूमि को

एमनेस्टी इंटरनेशनल खुद को एक अंतरराष्ट्रीय स्वयंसेवी संस्था बताती है, जो अपना उद्देश्य “मानवीय मूल्यों, एवं मानवीय स्वतंत्रता, को बचाने एवं भेदभाव मिटाने के लिए शोध एवं प्रतिरोध करने एवं हर तरह के मानवाधिकारों के लिए लडना” बताती है. एमनेस्टी  इंटरनेशनल हिंदुस्तान के बारे में कई बार ऐसी विवादित रिपोर्ट जारी कर चुकी है, जिससे राष्ट्रीय-अंतर्राष्ट्रीय पर हिन्दुस्तान की बदनामी हो, हिन्दुस्तान की छबि खराब हो. रिपोर्ट में जिन मुद्दों के कारण भारत को निशाना बनाया गया, उनकी कोई वाटसविकता नहीं है.

हिंदुस्तान की छबि को ख़राब करने के नापाक प्रयास के बाद एमनेस्टी इंटरनेशनल के निशाने पर प्रभु श्रीराम, प्रभु श्रीकृष्ण की जन्मभूमि उत्तर प्रदेश है. इस बार एमनेस्टी इंटरनेशनल ने प्रभु श्रीराम, प्रभु श्रीकृष्ण की पावन भूमि उत्तर प्रदेश को बदनाम करने का नापाक प्रयास किया है. एमनेस्टी इंटरनेशनल की रिपोर्ट के मुताबिक, उत्तर प्रदेश को ‘नफरत की आग’ फैलाने में नंबर वन बताया गया है. जबकि, गुजरात दूसरे नंबर पर है. एमनेस्टी इंटरनेशनल की रिपोर्ट के मुताबिक, भारत में साल 2018 के पहले 6 महीनों में 100 हेट क्राइम दर्ज किए गए. इसमें ज्यादातर शिकार दलित, आदिवासी, जातीय और धार्मिक रूप से अल्पसंख्यक समुदाय के लोग और ट्रांसजेंडर बने हैं. मनेस्टी इंटरनेशनल की रिपोर्ट के मुताबिक, हेट क्राइम में अब तक कुल 18 घटनाओं के साथ यूपी टॉप पर है. इसके बाद 13 घटनाओं के साथ गुजरात दूसरे नंबर पर, 8 घटनाओं के साथ राजस्थान तीसरे नंबर पर है. वहीं, हेट क्राइम की 7-7 घटनाओं के साथ तमिलनाडु और बिहार संयुक्त रूप से चौथे नंबर पर है.

एमनेस्टी इंटरनेशनल रिपोर्ट के मुताबिक, साल 2018 के पहले 6 महीनों में ‘हेट क्राइम’ के कुल 67 मामले वंचित-शोषित समाज के खिलाफ और अल्पसंख्यकों के खिलाफ 22 मामले दर्ज हुए हैं. इनमें से ज्यादातर केस गाय और ऑनर किलिंग से संबंधित हैं. उत्तर प्रदेश में भी सबसे अधिक मामले पश्चिमी उत्तर प्रदेश में दर्ज किए गए हैं. हिंदुस्तान के खिलाफ ऐक्यरफ़ा रिपोर्ट बनाने के आरोप एमनेस्टी इंटरनेशनल [ार कई बार लग चुके हैं लेकिन इसके बाद भी इस तथाकथित मानवाधिकार संस्था ने हिंदुस्तान को बदनाम करने का नापाक प्रयास किया है, जिसे हिंदुस्तान ने खारिज कर दिया है.

Share This Post