Breaking News:

शांत देश कहे जाने वाले स्विट्जरलैंड में जैसे ही बोला अल्लाह हू अकबर, वैसे ही घेर लिया पुलिस ने… फिर मिली एक सजा

 “उस व्यक्ति ने स्विट्जरलैंड में जैसे ही अल्लाह हू अकबर बोला, वैसे ही पुलिस ने उसे पकड़ लिया तथा उस पर 178 पाउंड                               का जुर्माना लगाया. पुलिस का मानना था कि राहगीरों को वो एक आतंकवादी लग सकता है और वे डर सकते हैं.”

 

स्विट्जरलैंड दुनिया का सबसे शांत देश माना जाता है, यहाँ तक कि स्विट्जरलैंड को धरती का स्वर्ग भी कहते हैं. लेकिन अब स्विट्जरलैंड से एक ऐसी खबर आ रही है जिससे कई लोग अशांत हो सकते हैं. खबर के मुताबिक़, स्विट्जरलैंड की पुलिस ने एक मुस्लिम व्यक्ति पर सार्वजनिक रूप से “अल्लाह-हू-अकबर” कहने के लिए 178 पाउंड का जुर्माना लगाया है. क्योंकि राहगीरों को वो एक आतंकवादी लग सकता है और वे डर सकते हैं.

मीडिया सूत्रों से मिली खबर के मुताबिक़, स्विस मीडिया ने व्यक्ति की पहचान ओरहान ई के रूप में की. व्यक्ति ने पूछताछ में बताया कि उसने पिछले साल मई में उत्तरी स्विट्जरलैंड के शहाफोंस से होते हुए एक दोस्त से मिलने के बाद इस वाक्यांश(अल्लाह-हू-अकबर) का इस्तेमाल किया था. ओरहान ने बताया कि उसने अल्लाह-हू-अकबर कहने के बारे में कुछ नहीं सोचा था, उसने कहा यह मुसलमानों द्वारा लगभग हर दूसरे वाक्य के बाद बोला जाता है.

जब उसने अपने दोस्त के साथ बातचीत की, तो “उसे एक ऑफ-ड्यूटी पुलिस अधिकारी द्वारा संपर्क किया गया” जिसने कहा कि अल्लाह-हू-अकबर के ज़ोर और स्पष्ट उपयोग से लोगों में आतंकवादी हमले का डर हो सकता है, इसीलिए हम सार्वजानिक स्थान पर इसे कहने की अनुमति नहीं देते. बता दें कि 1980 में, स्विट्जरलैंड में मुसलमानों की कुल आबादी का केवल 1 प्रतिशत था. हालांकि तब से स्विस आबादी में इस्लामिक आबादी का प्रतिशत बढ़ना जारी है. यह 2013 में 5 प्रतिशत और 2016 में 6.1 प्रतिशत था. स्विटजरलैंड में जिस तरह से मुस्लिम आबादी बढ़ रही है, उसने वहां के लोगों को चिंता में डाल दिया है.

Share This Post