पाकिस्तान ने भेजी थी अपनी फौज यमन में लड़ने के लिए.. उसका अंजाम बतायेगा पाकिस्तान की असली औकात

पाकिस्तानी सेना की असली औकात क्या है, इसका उदहारण उस यमन से मिला है, जहाँ पिछले दिनों आतंकी दल हूती के आतंकियों ने 500 से ज्यादा सऊदी सैनिकों को मार गिराने का दावा किया था. हूती के आतंकियों ने दावा किया था कि उसने 500 से ज्यादा सऊदी सैनिकों को मार दिया है, साथ ही उनके पास हजारों की संख्या में सऊदी अरब के जवान बंदी हैं. गौर करने वाली  बात ये है कि जिन जवानों को हूती के आतंकियों ने मार गिराया था, उनकी अगुवाई पाकिस्तान के पूर्व सेना प्रमुख राहिल शरीफ कर रहे थे.

जैसे ही हूती के आतंकियों ने सैनिकों को निशाना बनाया, पाकिस्तानी सेना के पूर्व जनरल राहिल शरीफ भाग खड़े हुए. यमन के आतंकी ग्रुप हूती ने पिछले रविवार को एक वीडियो ट्वीट किया, जिसमें सऊदी अरब के दक्षिणी बॉर्डर के पास नजरान में हमला किया गया. इस हमले में सैकड़ों जवान मारे गए और बाद में हजारों जवानों ने सरेंडर कर दिया था. इसमें तीन ब्रिगेड की अगुवाई पाकिस्तानी सेना के पूर्व प्रमुख राहिल शरीफ कर रहे थे जो हमले के दौरान भाग खड़े हुए.

हूती ग्रुप के प्रवक्ता के अनुसार सऊदी अरब की ओर से आने वाले जवान जब हजारों की संख्या में आ रहे थे, तब ड्रोन हमले में जवानों की हत्या हुई है. बता दें कि ये ब्रिगेड इस्लामिक मिलिट्री काउंटर टेररिज्म गठबंधन (IMCTC) के तहत आती है, जिसकी अगुवाई राहिल शरीफ कर रहे थे. मिडिल ईस्ट देशों की ओर से ISIS और विद्रोही ग्रुपों के खिलाफ लड़ाई के लिए इसे बनाया गया है. राहिल शरीफ इस ग्रुप के पहले कमांडर इन चीफ हैं जो हूती आतंकियों का सामना करने से डर गये तथा मैदान छोड़ भाग खड़े हुए.

सुदर्शन न्यूज को आर्थिक सहयोग करने के लिए नीचे लिंक पर जाएँ –

राष्ट्रवादी पत्रकारिता को समर्थन देने हेतु हमे आर्थिक सहयोग करे. DONATE NOW पर क्लिक करे
DONATE NOW