अड़ गये बौद्धों के कातिल रोहिंग्या… बोले- “नहीं छोड़कर जायेंगे दिल्ली”


म्यांमार में बौद्धों तथा हिन्दुओं का क़त्ल करके हिंदुस्तान में घुसपैठ कर चुके रोहिंग्या आक्रान्ताओं ने एलान कर दिया है कि वह किसी भी हालात में दिल्ली छोड़कर वापस नहीं जायेंगे. बौद्धों तथा हिन्दुओं के कातिल रोहिंग्या पत्थर के समान अड़ गये हैं कि वह यहीं रहेंगे तथा दिल्ली नही छोड़ेंगे. दिल्‍ली में रहने वाले रोहिंग्‍या मुसलमानों का कहना है कि वे वापस जाने की जगह मरना पसंद करेंगे.

बता दें कि दिल्‍ली पुलिस ने पहली बार रोहिंग्‍या कैंपों में नेशनल वेरीफिकेशन फॉर्म बांटे है. वह यहां रह रहे लोगों की बायोमीट्रिक जानकारी भी ले रही है. पुलिस के इस कदम से रोहिंग्या मुस्लिमों को आशंका है कि है कि कहीं उन्‍हें वापस ने भेज दिया जाए. हालांकि वेरीफिकेशन के फॉर्म पहले भी भराए गए हैं, लेकिन इस बार के फॉर्म में कुछ नए सेक्‍शन जोड़े गए हैं, जिनके चलते रोहिंग्‍याओं में डर है. बता दें कि नए फॉर्म के पहले दो बॉक्‍स में से एक में लिखा है, ‘आमी म्‍यांमार बंगाली’ और दूसरे में लिखा है, ‘अकरिन आमी म्‍यांमार बंगाली.’ इसका मतलब है कि ‘मैं म्‍यांमार में बंगाली हूं.’ इसके चलते शरणार्थियों में डर है कि इस सेक्‍शन के चलते उनकी पहचान की पूरी लड़ाई ही खतरे में पड़ जाएगी.

बता दें कि रोहिंग्याओं के वैरिफिकेशन के कवर पर लिखा है कि यह म्‍यांमार दूतावास की ओर से जारी किया गया है. पुलिस ने बताया कि संबंधित आदेश गृह मंत्रालय से मिले हैं. कैंपों में रहने वाले रोहिंग्याओं का कहना है कि, ‘पुलिस अ‍धिकारियों ने हमें बताया कि वे हमारे बायोमीट्रिक डिटेल के लिए आएंगे. उन्‍होंने बड़ी विनम्रता से कहा कि फिलहाल इसका इस्‍तेमाल हमें वापस भेजने में नहीं किया जाएगा, लेकिन हमारा मन नहीं मान रहा और हम किसी भी हालात में दिल्ली वापस छोड़कर नहीं जाने वाले है.


सुदर्शन के राष्ट्रवादी पत्रकारिता को आर्थिक सहयोग करे और राष्ट्र-धर्म रक्षा में अपना कर्त्तव्य निभाए
DONATE NOW

Share
Loading...

Loading...