सीरिया में मौत बरसा कर रूस चेक कर रहा था अपने हथियारों को.. 12 प्रकार के हथियार कईयों की जान ले कर टेस्ट किया

बलवान का कोई दोष नहीं होता भले ही वो कुछ भी करे.. ये कहावत चरितार्थ हो रही है जंग की आग में लगातार जलते जा रहे सीरिया की धरती पर जहाँ ISIS , कुर्द , तुर्की , इजरायल के साथ साथ संसार की 2 सबसे बड़ी महाशक्तियां अमेरिका और रूस अपनी जोर आजमाइश किये जा रही है.. इस मामले में सबसे आगे रूस निकलता दिखाई दे रहा है जिसने सीरिया को अपने हथियारों के परीक्षण का अड्डा जैसा बना लिया था और परख डाले 12 प्रकार के हथियार .

सीरिया में सबसे ज्यादा घातक और विध्वंसक युद्ध रूस ने किया था . अमेरिकी फौजों के संक्षिप्त हमले से आतंकियों को ज्यादा नुकसान नहीं हो रहा था लेकिन जब से रूस ने इस जंग में दखल दिया उसके बाद हालात बदल गये और अब ISIS सीरिया से पूरी तरह से उखड़ जैसा गया है.. रूस ने यहाँ पर अपने 2 कार्य के साथ किये जिसको कुछ लोग एक पन्थ दो काज की कहावत कहते हैं.. रूस ने इस जंग में अपने 12 अलग अलग प्रकार के हथियारों का परीक्षण भी कर डाला..

इसके बाद रूस ने निर्धारित किया कि उसके कौन से हथियार सही हैं और कौन से नहीं.. वैसे अब तक हथियारों का ये परीक्षण समुद्र में या निर्जन स्थानों पर हुआ करते थे.. रूसी रक्षा मंत्री ने बताया कि उनके देश ने 12 प्रकार के हथियारों को सीरिया में सैन्य अभियान के दौरान टेस्ट करने के बाद उसका उत्पादन रोक दिया है, जबकि 300 प्रकार के हथियारों का आधुनिकीकरण हुआ। रुसी रक्षामंत्री सिर्गेई शोएगू ने कहा कि रूसी सैनिकों को सीरिया में ऐसे आतंकवादी संगठन का सामना था जिसके हज़ारों सदस्य थे.

 

सुदर्शन न्यूज को आर्थिक सहयोग करने के लिए नीचे लिंक पर जाएँ –

http://sudarshannews.in/donate-online/

राष्ट्रवादी पत्रकारिता को समर्थन देने हेतु हमे आर्थिक सहयोग करे. DONATE NOW पर क्लिक करे
DONATE NOW