अचानक ही आक्रामक हो गया रूस और सीरिया पर बरसा दी मौत… 23 मारे कई घायल

सीरिया के सहयोगी देश रूस हमेशा से यही कहते आया है कि अमरीका ‘अपनी एकतरफा कार्रवाई से चरमपंथियों को बढ़ावा’ देती है.आपको बता दे की रूस के साथ अमरीका के तनाव में खासा इजाफ़ा हो गया है.संयुक्त राष्ट्र में रूस और अमरीका खुलकर एक दूसरे के ख़िलाफ़ बयानबाज़ी करते है.मामला सीरिया में राजधानी दमिश्क के समीप विद्रोहियों के कब्जे वाले पूर्वी गोता शहर का है जहाँ कम से कम 23 नागरिक मारे जा चुके है, जिनमें से ज्यादातर लोग रूस के हवाई हमलों में मारे गए.

ब्रिटेन स्थित मानवाधिकार संगठन सीरियन आब्जर्वेटरी फोर ह्यूमैन राइट्स ने बताया कि मिसराबा शहर में रूस के हवाई हमलों में 18 लोग मारे गए, जबकि बाकी लोग सरकारी सेना की गोलाबारी में मारे गए.संगठन के प्रमुख रामी अब्देल रहमान ने कहा कि मारे गए लोगों में तीन बच्चे और 11 महिलाएं शामिल हैं. जून 2017 में भी सीरिया में जेहादियों द्वारा संचालित जेल पर हमला हुआ था. जेल को निशाना बनाकर किए गए अमेरिका नीत गठबंधन के हवाई हमलों में करीब 60 लोगों की मौत हो गई थी.

तब अमेरिका ने कहा था कि हमले में जेहादी उसका एकमात्र निशाना हैं.बता दें कि सीरियन आब्जर्वेटरी फॉर हयूमन राइट्स ने इसके बारे में जानकारी दी थी. वही ब्रिटेन आधारित निगरानी समूह ने कहा था कि सीरिया के मयादीन में स्थित आईएस संचालित जेल को निशाना बनाया गया. बता दें कि मयादीन देश के पूर्वी प्रांत देइर एजोर का एक बड़ा शहर है. प्रांत के अधिकतर हिस्से पर जेहादियों का कब्जा है और यहां गठबंधन तथा सीरियाई सेना एवं उसके रूसी सहयोगी दोनों ही हवाई हमले करते रहे हैं.

वर्ष 2011 में शुरू हुए संघर्ष में अभी तक 340,000 से ज्यादा लोग मारे जा चुके हैं और लाखों लोग विस्थापित हो चुके हैं.पूर्वी गोता राजधानी दमिश्क के पूर्व में स्थित एक छोटा-सा शहर है जिसके ज्यादातर भाग पर जैश अल-इस्लाम समूह के विद्रोहियों का नियंत्रण है. रूस ने सीरिया के राष्ट्रपति बशर अल असद की सेना के समर्थन में 2015 में हमले शुरू किए थे.

Share This Post

Leave a Reply