इस्लामिक मुल्क सऊदी अरब घोषित होने जा रहा आतंक का अड्डा.. सभी देश सहमति की कगार पर


सऊदी अरब परदे के पीछे से इस्लामिक कट्टरवाद फ़ैलाता रहा है। आपको बता दें कि सऊदी अरब आतंकियों को कट्टरता फ़ैलाने के लिए फंड भी मुहैया कराते रहता है। सऊदी अरब का झूठ, फरेब अब दुनिया के सामने आ रहा है। गौरतलब है कि कुछ रिपोर्टों से पता चलता है कि संयुक्त राष्ट्र संघ यमन के बच्चों के जनसंहार के कारण सऊदी अरब के नेतृत्व में अरब गठबंधन का नाम ब्लैक लिस्ट में शामिल करने वाला है। अब सऊदी का एक संगठन जो की मासूम बच्चों के कत्लों जिम्मेवार हैं अब उनका काला चेहरा सामने आने लगा है।

आपको बता दें कि रोइटर्ज़ की रिपोर्ट के अनुसार, संयुक्त राष्ट्र संघ ने मंगलवार को अपने एक मसौदे में कहा कि यमन के बच्चों की हत्या और उनको घायल करने के लिए सऊदी अरब के नेतृत्व में बने अरब गठबंधन की कार्यवाही के कारण इसका नाम संयुक्त राष्ट्र संघ की ब्लैक लिस्ट में शामिल हो। इस रिपोर्ट में बताया गया हैं की 38 घटनाओं की समीक्षा करने के बाद जो हक़ीक़त सामने आई हैं वो चौंकाने वाली हैं। पूरी दुनिया के सामने सऊदी की हक़्क़ीक़त नज़र आने लगी हैं।

पता चला है कि वर्ष 2016 में अस्पतालों और स्कूलों पर अरब गठबंधन के हवाई हमलों में 683 बच्चे घायल हुए थे। यमन पर सऊदी अरब के हमलों में अब तक 12 हज़ार से अधिक लोग मारे जा चुके है, दसियों हज़ार घायल हुए हैं जबकि लाखों लोग घर बार छोड़कर पलायन पर विवश हुए हैं। मानवता के   कत्लेआम में सऊदी का हाथ और अब इस्लामिक मुल्क सऊदी अरब घोषित होने जा रहा आतंक का अड्डा और इसके लिए सभी देश सहमति भी जता रहे हैं।

* फोटो सांकेतिक हैं


सुदर्शन के राष्ट्रवादी पत्रकारिता को आर्थिक सहयोग करे और राष्ट्र-धर्म रक्षा में अपना कर्त्तव्य निभाए
DONATE NOW

Share