बेहद खतरनाक दिखता है नार्वे की मस्जिद में हथियार ले कर घुसा मात्र 21 साल का हमलावर.. न्यूजीलैड के ब्रेंटन टैरंट से भी ज्यादा.. देखिये तस्वीरें


वो मात्र २१ साल का युवक था . सब उसको समझते थे कि ये कैरियर बनाने की तैयारी कर रहा है लेकिन उसके मन में चल रहा था कुछ और ही . उसने बाकायदा बड़ी तैयारी की थी इस हमले के लिए . हथियारों को जमा किया था और बुलेट प्रूफ जैकेट आदि को जमा किया था . उसने अपने हमले का समय जो निर्धारित किया था वो उसके हिसाब से सही नहीं साबित हुआ और आख़िरकार मस्जिद में मात्र 3 लोग मौजूद थे और बच गया एक भीषण नरसंहार अन्यथा अब तक सुलग रहा होता यूरोप भी .

विदित हो कि नार्वे की जिस मस्जिद पर हमले का प्रयास किया गया है उसका नाम है मजिस्द अल नूर इस्लामिक सेंटर.. यहाँ पर बकरीद से पहले कई मुसलमानों के जमा होने का अनुमान लगा कर ही हमलावर घुसा था . इस हमलावर का नाम फिलिप है जिसके चेहरे पर पहले से ही तमाम दाग और खरोचों के निशान हैं . इस पर किसी की जान लेने के प्रयास का भी चार्ज नार्वे पुलिस द्वारा लगाया गया है . इसका पहला निशाना नार्वे की अल नूर मस्जिद के इमाम मोहम्मद रफ़ीक थे जो बाल बाल बच गये हैं .

नार्वे की पुलिस ने इस हमलावर को गिरफ्तार कर लिया है और जेल भेज दिया है . नार्वे के ख़ुफ़िया विभाग के अनुसार फिलिप पर लगभग 1 साल पहले से ही नजर रखी जा रही थी और माना जा रहा था कि वो कुछ बड़ी घटना को अंजाम दे सकता है लेकिन किसी ने ये अंदाजा नहीं लगाया था कि उसके निशाने पर मुसलमान और मस्जिद हैं . अपनी पहिचान छिपाने के लिए इस हमलावर ने शुरू में एक हेलमेट पहन रखा था लेकिन मस्जिद में भीड़ न होने के चलते एक बड़ा खून खराबा बच गया ..

देखिये हमलावर फिलिप की फोटो – 


सुदर्शन के राष्ट्रवादी पत्रकारिता को आर्थिक सहयोग करे और राष्ट्र-धर्म रक्षा में अपना कर्त्तव्य निभाए
DONATE NOW

Share
Loading...

Loading...