Breaking News:

गरीब ईसाई लडकियों को चीनी अय्याशों के हाथों बेच रहा है पाकिस्तान.. ईसाई – मुस्लिम धर्मयुद्ध में अब महिलायें भी निशाने पर

इस शर्मनाक घटना को जिसने भी जाना सुना या समझा वही हैरान रह गया है . कुछ पैसों के लिए और अपनी मजहबी उन्मादी हरकतों की संतुष्टि के लिए कोई व्यक्ति ही नहीं बल्कि कोई देश इतना नीचे गिर सकता है, ये किसी ने सोचा भी नहीं था .. पाकिस्तान से किसी भी हरकत की आशा वैसे भी संसार को थी लेकिन अब जो कुछ भी सामने आया है निकल कर वो इतना भयावह है कि उस घटना से ईराक में घोर अत्याचार की शिकार हो रही यज़ीदी लडकियों की पीड़ा भी पीछे छूट जाती है .

विदित हो कि पाकिस्तान ने खुद को जिस प्रकार से चीन के कदमो में बिछा दिया है वो दुनिया भर के साथ साथ कई इस्लामिक मुल्को को भी रास नहीं आ रहा है क्योकि वही चीन अपने देश में मुसलमानों के साथ ऐसा अत्याचार कर रहा है जो बाकी देश सोच भी नहीं सकते हैं . इतने के बाद भी कई इस्लामिक देश पाकिस्तान और चीन से इसलिए जुड़े हैं क्योकि वो भारत के खिलाफ एक अघोषित जंग छेड़े है जिसमे उसका हथियार हैं इस्लामिक आतंकी जो मानव बम तक बन जाया करते हैं .

लेकिन जिस ईसाई मुसलमान धर्मयुद्ध की बात सुदर्शन न्यूज के बिंदास में कही गई थी वो पाकिस्तान में भी जारी है जबकि अब तक दुनिया इसको श्रीलंका और न्यूजीलैंड भर में ही देख रही थी . पाकिस्तान में गरीब ईसाई लडकियों को बाकायदा चीन के अय्याशो के हाथो बेचा जा रहा है और चीनीयो को उनकी हवस की संतुष्टि का एक साधन उपलब्ध करवाया जा रहा है. गल्फ न्यूज़ में प्रकाशित खबर के अनुसार ‘आम तौर पर ऐसे दूल्हे गरीब ईसाई लड़कियों को शिकार बनाते हैं।

इन लड़कियों को अच्छे भविष्य और आरामदेह जिंदगी का सपना दिखाकर और कुछ पैसों का ऑफर देकर उन्हें शिकार बनाया जाता है। कई बार इन लड़कियों को देह व्यापार और मानव तस्करी के दलदल में भी धकेल दिया जाता है।’ चीन-पाकिस्तान इकनॉमिक कॉरिडोर निर्माण के बाद से 2015 से कई चीनी नागरिक पाकिस्तान में रह रहे हैं। इनमें से कुछ के पास तो घर और कार भी होता है। रिपोर्ट्स के अनुसार ‘कई चीनी लड़कें यहां रोजगार नहीं किसी दूसरे ही उद्देश्य से आते हैं।

बहुत से चीन के लड़कों ने पाकिस्तानी लड़कियों से शादी की और उन्हें चीन में सेक्स व्यापार में धकेल दिया। कुछ को तो मानव अंगों की तस्करी के लिए भी इस्तेमाल किया गया।’ इतना ही नहीं, पाक में मौजूद चाइनीज दूतावास ने भी एक बयान जारी कर निर्देश दिए हैं। चाइनीज दूतावास की ओर से जारी निर्देश के अनुसार स्थानीय नागरिकों को गैर-कानूनी मैचमेकिंग सेंटरों से वैवाहिक संबंध नहीं तय करने का सुझाव दिया है

Share This Post