बांग्लादेश की प्रधानमंत्री शेख हसीना बोलीं- “लेने को तैयार हैं हम भारत के सारे बांग्लादेशी…. लेकिन बहुत कड़ी शर्त है”

बांग्लादेश की प्रधानमंत्री शेख हसीना ने भारत में घुसपैठ कर चुके बांग्लादेशी घुसपैठियों को लेकर बड़ा बयान दिया है. बांग्लादेशी प्रधानमंत्री शेख हसीना ने कहा है कि वह भारत से बांग्लादेशी घुसपैठियों को वापस लेने को तैयार हैं लेकिन इसके लिए उन्होंने एक शर्त रखी है. बांग्लादेश में एक बैठक के दौरान प्रधानमंत्री हसीना ने असम के एनआरसी के संदर्भ में कहा कि इसके पीछे ये शर्त होगी कि भारत को यह प्रमाणित करना होगा कि वे वाकई बांग्लादेशी नागरिक हैं, जो चोरी छिपे भारत में चले गये थे.

दिल्ली में भरे बाज़ार मार डाली गई कीर्ति.. 49 समर्थकों से मिले मनोबल को मोहम्मद मुनाजिर ने बदला दुस्साहस में

ज्ञात हो कि असम एनआरसी की अंतिम सूची में 40 लाख लोगों को अवैध प्रवासी माना गया है. भारतीय जनता पार्टी के राष्ट्रीय अध्यक्ष और केंद्रीय गृह मंत्री अमित शाह कई अवसरों पर इन अवैध घुसपैठियों पर अपनी नाराजगी सार्वजनिक तौर पर जाहिर कर चुके हैं. अभी हाल ही में गृहमंत्री अमित शाह ने लोकसभा में भी यह बयान दिया था कि चाहे कुछ भी हो जाए लेकिन पूरे देश के ईंच ईंच जमीन पर बसे अवैध घुसपैठियों को खोजकर उन्हें किसी भी हालत में वापस भेजा जाएगा.

पीएम मोदी ने मन की बात में कहा, कश्मीर में नफरत फ़ैलाने वाले कभी कामयाब नहीं हो सकते..

बांग्लादेश की प्रधानमंत्री ने कहा कि उनके देश में भी असम की इस समस्या को स्थानीय नागरिक असम की स्थानीय समस्या मानते हैं. बांग्लादेश की मीडिया ने भी इस पर कभी गंभीरता से ध्यान भी नहीं दिया है. शेख हसीना ने कहा है कि अब असम में ऐसे लोगों की पहिचान चल रही है. इसके पूरा होने के बाद निश्चित तौर पर बांग्लादेश और भारत की सरकार के बीच इस मुद्दे पर बात-चीत होगी. ऐसा इसलिए होगा क्योंकि सारे विवाद में बार बार बांग्लादेश के घुसपैठियों की चर्चा हो रही है. शेख हसीना ने कहा कि दोनों देश राजनीतिक तौर पर समझदार हैं और दोनों के बीच काफी बेहतर रिश्ते भी हैं. इसलिए जब यह समस्या सामने आ जाएगी तो बात-चीत के जरिए इसे अवश्य ही सुलझा लिया जाएगा.
सुदर्शन न्यूज को आर्थिक सहयोग करने के लिए नीचे DONATE NOW पर क्लिक करे
DONATE NOW