“हमारा देश तत्काल छोड़ दें सभी विदेशी मौलाना वरना उनसे अब सीधे पुलिस मुलाक़ात करेगी” … श्रीलंका के नए रूप ने इजरायल को भी पछाड़ा


इस्लामिक आतंकी तथा मजहबी चरमपंथ के खिलाफ बेहद ही क्रूरता तथा आक्रामक तरीके से पेश आने वाले देशों की बात की जाये तो सबसे पहले रूस तथा इजरायल का नाम ही लिया जाता है..लेकिन अब इस लिस्ट में एक देश का नाम और जुड़ता हुआ नजर आ रहा है तथा वो देश में श्रीलंका. ईस्टर पर श्रीलंका के चर्चों तथा होटलों पर हुए भीषण सिलसिलेवार बम धमाकों के बाद दुनिया श्रीलंका का रौद्र रूप रही है. श्रीलंका न सिर्फ इस्लामिक आतंकियों बल्कि इस्लामिक कट्टरपंथियों के खिलाफ मुखर हो चुका है तथा श्रीलंका के इस आक्रामक रुख को देख इस्लामिक जगत में खलबली मच गई है.

बलात्कार करके उसका वीडियो सोशल मीडिया पर वायरल किया तौफीक ने.. एक चुनौती समाज के सब्र को

श्रीलंकाई सत्ता ने विदेशी मौलानाओं को लेकर कड़ा आदेश करते हुए कहा है कि सभी अवैध विदेशी मौलाना जल्द से जल्द श्रीलंका छोड़ दें, वरना उनसे सीधे श्रीलंका की पुलिस मुलाकात करेगी. आपको बता दें कि श्रीलंका की सरकार इस्लामी कट्टरपंथ को खत्म करने के लिए कठोर कानून बना रही है. श्रीलंका ने कहा है कि देश में गैरकानूनी तरीके से तालीम दे रहे विदेशी मौलवियों को बाहर किया जाएगा तथा अगर ये मौलाना श्रीलंका से बाहर नहीं गये तो उसके साथ सख्ती से निपटा जाएगा.

भारत के भागलपुर का धर्मस्थल था आजाद अंसारी के निशाने पर.. तैयारी थी पूरी कि भड़के दंगा और निकलें हथियार, जिसमें निशाने पर थे हिन्दू

विदेशी मौलानाओं के लित्ये श्रीलंकाई सत्ता के इस आदेश के बाद दुनिया चकित है. इससे पहले श्रीलंकाई राष्ट्रपति मैत्रीपाला सिरिसेना ने श्रीलंका में बुर्का तथा नकाब को बैन करने का आदेश दिया था. इस बीच श्रीलंका के प्रधानमंत्री रानिल विक्रमसिंघे ने रविवार को कहा कि सुरक्षा बलों ने फिदायीन हमले से जुड़े इस्लामी कट्टरपंथियों को या तो मार गिराया गया है, या उन्हें गिरफ्तार कर लिया है. पीएम रानिल विक्रमसिंघे ने कहा कि कि इस्लामी कट्टरपंथ का खात्मा करने के लिए कठोर कानून लाने की योजना बनाई गई है तथा श्रीलंका में गैरकानूनी तरीके से शिक्षा दे रहे विदेशी मौलवियों को देश से बाहर किया जाएगा.

ब्लास्ट और नरसंहार के आरोपी श्रीलंकाई मुसलमानों के लिए अब भारत से उठी पहली आवाज… देवबंद को हुआ दर्द, पर मृतकों के लिए नहीं

राष्ट्रवादी पत्रकारिता को समर्थन देने व हमें मज़बूत करने के लिए आर्थिक सहयोग करें।

Paytm – 9540115511


सुदर्शन के राष्ट्रवादी पत्रकारिता को आर्थिक सहयोग करे और राष्ट्र-धर्म रक्षा में अपना कर्त्तव्य निभाए
DONATE NOW

Share
Loading...

Loading...