200 मौलानाओं को देश से जबरन निकाल दिया श्रीलंका ने.. अभी उसकी लिस्ट और भी बहुत लंबी


ईस्टर पर हुए सीरियल ब्लास्ट के बाद श्रीलंका ने आतंकियों के अलावा कट्टरपंथी इस्लामिक प्रचारकों पर भी शिकंजा कसना शुरू कर दिया है. इस्लामिक कट्टरपंथ के खिलाफ श्रीलंकाई सत्ता ने जैसा आक्रामक तथा रौद्र रूप दिखाया है, उससे दुनिया दंग है. कट्टरपंथियों के खिलाफ श्रीलंका एक के बाद एक बेहद ही कड़े कदम उठा रहा है. देशभर में बुर्का तथा नकाब पर बैन लगाने के बाद श्रीलंका ने 200 इस्लामिक मौलानाओं के साथ ही 600 से ज्यादा विदेशी लोगों को देश से बाहर निकाल दिया है.

ज्ञात हो कि लंबे समय से ऐसी खबरें सामने आ रही थी कि श्रीलंकाई सरकार विदेशी मौलानाओं से देश निकाला दे सकती है, जो अब सच हुई हैं. श्रीलंकाई गृहमंत्री वाजिरा अभयवर्धने ने कहा कि सभी मौलाना वैध तरीके से देश में दाखिल हुए थे, लेकिन ईस्टर अटैक के बाद हुई जांच में सामने आया कि वीजा खत्म होने के बाद भी वो वापस नहीं गए, जुर्माना लगाने के बाद उन्हें देश से बाहर कर दिया गया. उन्होंने कहा कि हमने वीजा प्रणाली की समीक्षा कनरे के बाद महसूस किया कि धार्मिक उपदेशकों के लिए वीजा की शर्तों को और कड़ा किया जाना चाहिए.

गृह मंत्री ने कहा कि निष्कासित किए गए लोगों में 200 मौलाना हैं. इसके साथ ही श्रीलंका प्रशासन ने लोगों से अपने घर में रखी तलवारों और चाकुओं को भी त्यागने की अपील की है. पुलिस की मीडिया इकाई ने सूचना जारी कर सभी को रविवार तक चाकू और तलवार पास के पुलिस थाने में जमा करवाने का समय दिया है. बता दें कि ईस्टर पर श्रीलंका के चर्चों तथा होटलों पर भयानक सीरियल बम धमाके हुए थे, जिसमें सैकड़ों लोगों की जान गई थी.


सुदर्शन के राष्ट्रवादी पत्रकारिता को आर्थिक सहयोग करे और राष्ट्र-धर्म रक्षा में अपना कर्त्तव्य निभाए
DONATE NOW

Share
Loading...

Loading...