सोमालिया तो म्यांमार नहीं था, फिर वहां क्यों गिरी 18 लाशें ?

आंतक हर जगह अपना पैर पसारना चाहता है। आंतकवाद से संसार का कोई भी देश अछुता नही रहा। आतंकवाद एक ऐसा खौफनाक मंजर जिसके सुनने से ही

लोगों रूह कांप जाती हैं। विश्व का प्रत्येक देश जानता हैं। कि आंतकवाद को पाकिस्तान ही बढावा देता। पाकिस्तान ही आंतकवाद के जहरीले नागों को दूध पिलाकर

पालता हैं। एक बार फिर से पाकिस्तान के इन नागों ने अनेक मासूम लोगों को मौत के घाट उतार दिया ।

आपको बता दे कि सोमालिया की राजधानी मोगादीशु स्थित पुलिस अकादमी में एक पुलिस अधिकारी की वेशभूषा में घुसे एक इस्लामी आत्मघाती हमलावर ने खुद

को उड़ा लिया जिसमें कम से कम 18 लोगों की मौत हो गई और 20 लोग घायल हो गये। पुलिस ने यह जानकारी दी। कर्नल मोहम्मद अदेन ने बताया कि

घायल अधिकारियों में से कुछ की हालत गंभीर बनी हुई है। कैप्टन मोहम्मद हुसैन ने बताया कि आत्मघाती हमलावर ने विस्फोटक अपनी कमर पर बांध रखे थे

और वह जनरल काहिये पुलिस अकादमी घुस गया और सुबह के विशेष अभ्यास के लिए इकट्टा अधिकारियों को निशाना बनाया।

हुसैन ने बताया कि अधिकारी 20 दिसम्बर को प्रस्तावित सोमालिया पुलिस दिवस समारोह के लिए अभ्यास कर रहे थे। उन्होंने बताया कि हमलावर चोरी छिपे

पुलिस अकादमी में घुस गया और अभ्यास परेड में अधिकारियों की एक लम्बी पंक्ति में शामिल हो गया। इसके बाद उसने विस्फोट कर दिया। विस्फोट के समय

मौके पर मौजूद पुलिस अधिकारी फराह उमर ने बताया कि हमलावर ने एक ऐसी जगह को निशाना बनाया जहां कई सैनिक इकट्टा थे।

उमर ने कहा, ” वह ज्यादा से ज्यादा नुकसान पहुंचाना चाहता था। सोमालिया के अल-शबाब चरमपंथी समूह ने इस हमले की जिम्मेदारी ली है। अलकायदा से

संबद्ध अल-शबाब होटलों, जांच चौकियों और मोगादीशू के कई महत्वपूर्ण क्षेत्रों पर लगातार हमले करता आया है। इससे पहले सोमालिया की राजधानी मोगादिशू के

एक लोकप्रिय होटल के बाहर बीते 28 अक्टूबर को हुए आत्मघाती हमले में 25 लोगों की मौत हो गई, जबकि 30 घायल हो गए थे।

यह हमला 29 अक्टूबर से

शुरू होने वाली मंत्रिमंडल की उच्चस्तरीय बैठक से पहले नासाहाब्लोड 2 होटल के बाहर शनिवार रात को हुआ था।
हालांकि सुरक्षाबलों और हमलावरों के बीच जारी गोलीबारी के बीच होटल से सरकार के एक मंत्री सहित 30 लोगों को सुरक्षित बाहर निकाल लिया गया था। इसी

स्थान पर पहले हमले के बाद दूसरा विस्फोट भी हु। दूसरा विस्फोट उस समय हुआ, जब बचाव दलों के होटल तक पहुंचने के लिए रास्ता खाली कराने हेतु एक ट्रक

एक छोटे वाहन को खींच रहा था। आतंकवादी संगठन अल शबाब ने इस हमले की जिम्मेदारी ली थी।

राष्ट्रवादी पत्रकारिता को समर्थन देने हेतु हमे आर्थिक सहयोग करे. DONATE NOW पर क्लिक करे
DONATE NOW