बेरहमी से मार डाले गये हैं वो सभी 39 भारतीय जो ईराक में थे इस्लामिक आतंकियों की कैद में


आख़िरकार वो राज सामने आ ही गया जिसको ले कर काफी दिन से न सिर्फ ऊहापोह की स्थिति थी अपितु सरकार भी शंका में थी . ये विषय था इराक में करीब तीन साल पहले इस्लामिक आतंकियों द्वारा अपहरण किये गये 39 भारतीय लोगों की वर्तमान स्थिति को पता करने का और अब ये साबित हो चुका है कि उन सभी के कत्ल कर दिए गये हैं . इस बात की पूर्ण पुष्टि भारत सरकार विदेश मंत्री श्रीमती सुषमा स्‍वराज ने मंगलवार को राज्‍यसभा कर दी .

सुषमा स्वराज जी ने बताया कि प्राप्त लाशों का DNA टेस्ट करवाया गया जिसमे से 38 लाशों का डीएनए मिलान हो चुका है और अंतिम अर्थात 39वें का डीएनए 70 प्रतिशत तक मिल रहा है . इस मुद्दे पर भारत की संसद में इस्लामिक आतंकियों द्वारा कत्ल किये गये उन सभी 39 भारतीयों के लिए दो मिनट का मौन रखा गया और उनकी दिवंगत आत्मा की शांति के लिए कामना की गयी ..  

इस्लामिक आतंकियों ने उन सभी भारतीयों को मार कर इराक के बंदूक इलाके में एक पहाड़ी की मिटटी में दबा दिया था जिसको खोदकर बाहर निकाला गया और डीएनए सैंपल की उनकी विधिवत जांच से उनकी पहचान की गई। ISIS के इस्लामिक आतंकियों द्वारा ये भारतीय जून 2014 में इराक के मोसुल शहर से अगवा कर लिए गए थे जो वहां रोजी रोटी की तलाश में एक धर्मनिरपेक्ष देश समझ कर गये थे . ये घटना उन सभी ISIS पसंद भारतीय गद्दारों पर भी सवाल उठाती है जो सेना और पुलिस को ISIS का झंडा भारत के ही विरोध स्वरूप दिखाया करते हैं या ईराक भाग कर गये ISIS आतंकियों को मानवता की नजर से देखने की गुजारिश करते हैं . 


सुदर्शन के राष्ट्रवादी पत्रकारिता को आर्थिक सहयोग करे और राष्ट्र-धर्म रक्षा में अपना कर्त्तव्य निभाए
DONATE NOW

Share