Breaking News:

आतंकी संगठन तालिबान ने बताया बेनजीर भुट्टो के कातिल का नाम.. वही है वो जिसके हाथ सने हुए हैं कई भारतीयों के भी खून से

पकिस्तान की पूर्व प्रधानमंत्री बेनजीर भुट्टो हत्याकांड को लेकर इस्लामिक आतंकी संगठन  तहरीक-ए-तालिबान ने पाकिस्‍तान (TTP) ने एक एक सनसनीखेज खुलासा किया है. तालिबान ने बेन्जरी भुट्टो की ह्त्या का जिस व्यक्ति को जिम्मेदार ठहराया है उससे सनसनी मच गई है तथा जिस व्यक्ति को तालिबान बेनजीर भुट्टो हत्याकांड का सबसे बड़ा मास्टरमाइंड बता रहा है, उसके हाथ कई भारतीयों के खून से भी सने हुए हैं और ये व्यक्ति है पाकिस्तान का पूर्व राष्ट्रपति परवेज मुशर्रफ.

आतंकी संगठन तालिबान ने पाकिस्तान के पूर्व राष्‍ट्रपति जनरल परवेज मुशर्रफ पर भुट्टो मर्डर केस की साजिश रचने और विस्‍फोट करने का आरोप लगाया है. तालिबान ने कहा है कि इकरामुल्‍लाह को ‘बैकअप आत्‍मघाती हमलावर’ के तौर पर भेजा गया था और उसे कहा गया था कि यदि पहला हमलावर असफल होता है तो बमों से लैस अपने बनियान में विस्‍फोट करे. बताया गया है कि जब पहले हमलावर ने खुद को उड़ा लिया तब इकरामुल्‍लाह वहां से हट गया. दिसंबर 2007 में रावलपिंडी में आयोजित रैली के दौरान हुए इस विस्‍फोट में भुट्टो समेत 20 अन्‍य लोगों की जान चली गई थी. इसी जगह 16 अक्तूटूबर 1951 में पाकिस्‍तान के प्रथम प्रधानमंत्री लियाकत अली खान की भी हत्‍या की गई थी. भुट्टो की हत्‍या पर इकरामुल्‍लाह के पहले सार्वजनिक बयान वाले वीडियो को बीबीसी ने बरामद किया था.

माना जाता है कि यह वीडियो पूर्वी अफगानिस्‍तान में टीटीपी के आतंकी ग्रुप द्वारा बनाया गया था. शहरयार के पास बैठा ग्रुप कमांडर इकरामुल्‍लाह बार-बार वीडियो में यही कह रहा है कि न तो वह भुट्टो की हत्‍या के बारे में जानता था और न ही इसमें शामिल था. शहरयार ने दावा किया है कि पाकिस्‍तान तालिबान इस हमले में शामिल नहीं था और उसने देश में तत्‍कालीन सैन्‍य शासक परवेज मुशर्रफ व इंटेलिजेंस सर्विस पर आरोप लगाया है. शहरयार ने कहा, ‘बेनजीर हत्‍या से इकरामुल्‍लाह को जोड़ने का प्रयास मीडिया और ईशनिंदा कानून के विरोधियों का काम है.’ उधर, पूर्व गृह मंत्री रहमान मलिक ने बताया कि आतंकी पूरी तरह झूठ बोल रहे हैं क्‍योंकि कोर्ट में अन्‍य संदिग्‍धों की ओर से इकरामुल्‍लाह का नाम लिया गया है. मलिक ने कहा कि इकरामुल्‍लाह एक मात्र जीवित शख्‍स है जिसे भुट्टो हत्‍याकांड के बारे में जानकारी है. इस मामले में संलिप्‍त अधिकतर आतंकी मारे गए। उनका कहना है कि अफगानिस्‍तान में पकड़े जाने और पाकिस्‍तान को सौंपे जाने के डर से इकरामुल्‍लाह इंकार कर रहा है.

Share This Post