Breaking News:

महाराष्ट्र के खैरुल्ला खान परिवार के साथ छुट्टी मनाने के लिए गये थे इस्लामिक मुल्क ओमान.. वहां आई बाढ़ और बह गया पूरा परिवार

छुट्टियां मनाने के लिए इस्लामिक मुल्क ओमान जाना खैरुल्ला खान तथा उनके परिवार का काल बन गया. ओमान ट्रिप के दौरान आई भयंकर बाढ़ की चपेट में आकर खैरुल्ला खान तथा उनका पूरा परिवार बह गया. मुंबई पुलिस ने मामले की जानकारी देते हुए सोमवार को बताया कि 6 लोगों का ये परिवार ओमान गया था जहाँ शनिवार को पूरा परिवार बाढ़ में बह गया. बताया गया है कि खैरुल्ला खान महाराष्ट्र के बीड जिले के मजलगांव के रहने वाले थे.

निकाह के 15 दिन बाद जैसे ही शौहार ने कहा “तलाक तलाक तलाक” वैसे ही फरहीन बोल पड़ी “जयश्रीराम” .. अब वो है अन्नू और अमरदीप की 7 जन्म की जीवन संगिनी भी

खबर के मुताबिक़, खैरुल्ला खान सेवानिवृत्त अध्यापक थे तथा अपने परिवार के साथ ओमान के बानी खालिद गए थे. ये यहां का एक मुख्य पर्यटन स्थल माना जाता है जो कि राजधानी मस्कट से महज 126 किमी की दूरी पर है. मजलगांव पुलिस स्टेशन के इंस्पेक्टर ने बताया, “खान के साथ उनकी पत्नी, उनकी बहू अर्शी और तीन पोते-पोती और साथ में एक 28 साल का व्यक्ति था. ये सभी खान के बड़े बेटे फजल अहमद के पास गए थे, जो दो साल से यहां फार्मासिस्ट के तौर पर काम कर रहे हैं।”

भारत के कई हिस्से हैं सूखे की चपेट में, सेक्यूलर भारतीय व्यापारी को चिंता थी पाकिस्तान की… फिर उठाया ये कदम

उन्होंने बताया कि पूरा परिवार फजल अहमद की गाड़ी से वाडी बानी खालिद घूमने गए थे. “जब वो उस स्थान पर पहुंचे तो वहां भारी बारिश के साथ-साथ अचानक तूफान आ गया. तेज बारिश और धुंध के कारण गाड़ी आगे नहीं बढ़ पा रही थी. काफी कोशिश के बाद भी जब गाड़ी आगे नहीं बढ़ी तो परिवार ने बाहर निकलने के लिए गाड़ी का दरवाजा खोला. लेकिन जैसे ही दरवाजा खोला गया, तो फज़ल अहमद की चार साल बेटी सिदरा नीचे पानी में गिर गई.”

भोपाल के नाले से मिली मासूम बच्ची की लाश. बलात्कार का शक. कमलनाथ शासित MP पुलिस बोली थी – “भाग गई होगी किसी के साथ”

मजलगांव पुलिस स्टेशन के इंस्पेक्टर ने बताया कि  बच्ची को बचाने के लिए पानी में कूदे लेकिन पानी के तेज बहाव से पूरा परिवार बह गया. थोड़ी देर बाद सभी गायब हो गए. उन्होंने बताया कि फज़ल ताड़ के पेड़ की शाखा को पकड़कर बच गया. फज़ल ने ओमान में मीडिया से बात करते हुए कहा, “शुरू में हमें लगा कि वो धूप वाला दिन है. तभी हम वाडी गए, मैंने देखा की लोग जल्दी में वहां से जा रहे हैं. जब तक हमें मामले का पता चलता, तेज बारिश शुरू हो गई थी.” इसके बाद हमारा पूरा परिवार बाढ़ में बह गया.

राष्ट्रवादी पत्रकारिता को समर्थन देने के लिए हमें सहयोग करें. नीचे लिंक पर जाऐं

Share This Post