अफगानिस्तान में तैनात अमेरिकी ईसाई बन गया था मुसलमान.. लेकिन बात यहीं ख़त्म नहीं हुई थी, वो प्यासा हो चुका था खून का

इस्लामिक कट्टरपंथी किस कदर जिहाद के नाम पर लोगों का ब्रेनवाश कर उसे उन्मादी बना देते हैं, इसका बेहद ही भयावह तथा डरावना मामला अमेरिका से सामने आया है.. खबर के मुताबिक़, अमेरिका के एक ईसाई सैनिक को अफगानिस्तान में तैनाती के दौरान इस्लामिक कट्टरपंथियों ने मुस्लिम बना दिया. इसके बाद जो हुआ वो काफी हैरान करने वाला था. इस अमेरिकी सैनिक को अफगानिस्तान में इस्लामिक आतंकियों से लड़ने के लिए भेजा गया था लेकिन वह मुसलमान बनकर ईसाइयों के ही खून का प्यासा हो गया.

उत्तर प्रदेश का एक ऐसा मदरसा जहाँ सैकड़ों बच्चियों के साथ हो चुकी है दरिंदगी.. चेयरमैन के खुलासे सनसनी

मीडिया सूत्रों से मिली खबर के मुताबिक़, ये अमेरिकी सैनिक न्यूजीलैंड के क्राइस्टचर्च में हुए हमले का बदला लेने के लिए लॉस एंजिलिस में बड़े पैमाने पर हमला करने की प्लानिंग कर रहा था. हालांकि वह अपने मकसद में कामयाब हो पाता, इसके पहले ही पुलिस ने उसे गिरफ्तार कर लिया. अमेरिकी मीडिया में आई रिपोर्ट्स के मुताबिक, अफगानिस्तान में तैनात रहे 26 वर्षीय पूर्व सैनिक मार्क स्टीवन डोमिंगो कुछ ही समय पहले धर्म परिवर्तन कर इस्लाम अपना लिया था.

एक चायवाला प्रधानमंत्री बना था, अब दूसरा चायवाला बना मेयर.. जानिये संघर्ष की एक और जीवंत कथा

अधिकारियों ने सोमवार को बताया कि मार्क स्टीवन डोमिंगो पर पिछले सप्ताह लॉंग बीच पर आयोजित श्वेत राष्ट्रवादी रैली के दौरान IED विस्फोट करने और ज्यादा से ज्यादा लोगों की जान लेने की योजना बनाने का आरोप है. डोमिंगो को शुक्रवार को गिरफ्तार किया गया. उस दिन एक अंडरकवर एजेंट ने डोमिंगो को एक पैकेट दिया, जिसे पूर्व सैनिक ने बम समझ कर ले लिया. अदालती दस्तावेजों के मुताबिक, डोमिंगो ने ऑनलाइन पोस्ट और FBI के सूत्रों के साथ बातचीत में हिंसक जिहाद की बात स्वीकार की थी.

जिन केय बलों से सबसे ज्यादा समस्या थी ममता बनर्जी को, उन्हीं के हवाले हुए पश्चिमन्द्री बंगाल

मीडिया सूत्रों की मानें तो वह न्यूजीलैंड मस्जिद हमलों का बदला लेकर शहीद बनना चाहता था. 14 मार्च को एक प्राइवेट ऑनलाइन ग्रुप में डोमिंगो ने एक पोस्ट किया था जिसमें न्यूजीलैंड की मस्जिदों पर हुए हमलों का जिक्र था. डोमिंगो ने मुसलमानों के खून के बदले ईसाइयों और यहूदियों से बदला लेने की बात लिखी थी. बाद में डोमिंगो से जब FBI के एजेंट ने पूछा था कि वह क्यों लोगों को मारना चाहता है, तो उसने कहा था कि शहीद होने के लिए.

मुख्य न्यायाधीश पर यौन शोषण के आरोप के बीच आया प्रशांत भूषण का नाम.. वही भूषण जो कर रहे हैं रोहिंग्याओं की पैरोकारी

राष्ट्रवादी पत्रकारिता को समर्थन देने व हमें मज़बूत करने के लिए आर्थिक सहयोग करें।

Paytm – 9540115511

Share This Post