“आएगा तो मोदी ही” सिर्फ भारत में ही नहीं बल्कि अमेरिका जैसे देशों में भी गूँज रहा था.. जानिये क्या कहा अमेरिकी विदेश मंत्री ने

लोकसभा चुनाव 2019 के सियासी रण में जो सियासी दलों द्वारा तमाम नारों के माध्यम से जनता को लुभाने का प्रयास किया था, लेकिन एक नारा ऐसा भी था जो सिर्फ एक पार्टी नहीं बल्कि देश की जनता की जुबान पर भी चढ़ा हुआ था. जब 23 मई को चुनाव परिणाम आये तो ये नारा सच भी साबित हुआ तथा ये नारा था “आयेगा तो मोदी ही”.  “आयेगा तो मोदी ही” नारा जनता की जुबान पर ऐसा चढ़ा कि जनता ने मोदी जी को 2014 के मुकाबले और ज्यादा बंपर सीटों के साथ दोबारा पीएम बना दिया.

आज ही हुआ था छत्रपति शिवाजी महाराज का राज्याभिषेक.. संपूर्ण विश्व ब्रह्माण्ड के समस्त हिन्दुओ को “हिन्दू साम्राज्य दिवस” की शुभकामनाएं

लेकिन आपको बता दें कि “आएगा तो मोदी ही” नारा सिर्फ भारत में ही नहीं गूँज रहा था बल्कि दूर देश अमेरिका में भी इस नारे की गूँज सुनाई दे रही है. अमेरिका के विदेश मंत्री माइक पोम्पियो ने भारत दौरे से पहले बड़ा बयान दिया है. पोम्पियो ने कहा कि वह पहले ही जानते थे कि नरेंद्र मोदी दोबारा भारत के प्रधानमंत्री बनेंगे. उन्होंने कहा कि हमें आम चुनाव में मोदी की शानदार जीत से कोई हैरानी नहीं है. पोम्पियो 24 जून को भारत दौरे पर आएंगे.

मुफ्त में मेट्रो पर श्रीधरन का आया जवाब… मोदी को पत्र लिखकर बताया इसका परिणाम

अमेरिकी विदेश मंत्री पोम्पियो ने बुधवार को एक समारोह के दौरान कहा कि उनकी टीम भारत में चुनाव पर नजर रखे हुए थे. हमें भरोसा था कि नरेंद्र मोदी दुनिया की सर्वाधिक आबादी वाले लोकतंत्र के दोबारा प्रधानमंत्री बनेंगे. उन्होंने ‘इंडिया आइडियाज समिट’ में कहा, “कुछ सप्ताह पहले ही वास्तव में ऐतिहासिक चुनाव हुआ जिसमें 60 करोड़ भारतीयों ने इतिहास की सबसे बड़ी कवायद में हिस्सा लिया और उन्होंने मोदी को बड़ा जनादेश दिया.”

इस्लामिक बैंक का नाम सुनते ही जमा सुनते ही जमा हो गये थे अरबों रूपये.. लेकिन उन्हें पता नहीं था कि आगे क्या होने वाला है

डोनाल्ड ट्रंप के खास तथा अमेरिकी विदेश मंत्री माइक पोम्पियो ने कहा कि परिणाम से कई पर्यवेक्षक हैरान थे, लेकिन मुझे मोदी की जीत पर कोई हैरानी नहीं थी. क्योंकि मैं करीब से चुनाव पर नजर रखे हुए था. विदेश विभाग में मेरी टीम भी देख रही थी. पोम्पियो ने कहा कि 1971 के बाद कोई भी भारतीय प्रधानमंत्री एक पार्टी के बहुमत के साथ पद पर नहीं लौटा है. वह चाय विक्रेता के बेटे हैं जिन्होंने 13 साल तक एक राज्य का शासन संभाला और अब वाकई दुनिया की सबसे तेजी से उभरती महाशक्तियों में से एक का नेतृत्व संभाल रहे हैं.

राष्ट्रवादी पत्रकारिता को समर्थन देने के लिए हमें सहयोग करेंनीचे लिंक पर जाऐं

Share This Post