Breaking News:

पाकिस्तानी संसद तक में उठा हिन्दुओं पर अत्याचार का मामला.. जिसे मान चुकी पाकिस्तानी संसद भी, उसे नहीं मान रहे शरद पवार

पाकिस्तान में अल्पसंख्यक हिन्दू समुदाय पर किस कदर अत्याचार किये जा रहे हैं, धर्म के नाम पर उनको निशाना बनाया जा रहा है, ये पूरी दुनिया देख रही है. पाकिस्तान के सिंध प्रान्त के घोटकी में हिन्दुओं के साथ अभी क्या हो रहा है, उसके वायरल वीडियो सभी ने देखे हैं कि किस तरह इस्मालिक जिहादियों की भीड़ ने मजहब के नाम पर हिन्दुओं को निशाना बनाया, उनको घरों में घुसकर मारा, दुकानों में आग लगाई, मंदिरों को तोड़ डाला गया. इसके साथ ही पाकिस्तान में आये दिन हिन्दू लडकियों के अपहरण तथा उनके जबरन धर्मान्तरण की घटनाएँ भी सामने आती रहती हैं.

अब पाकिस्तान की संसद में भी हिन्दुओं पर अत्याचार का मुद्दा उठाया गया है. पाकिस्तान मुस्लिम लीग (नवाज) के सांसद खेल दास कोहिस्तानी ने सिंध में हिंदुओं पर हो रहे अत्याचारों पर संसद में सवाल उठाया है. उन्होंने संसद में कहा कि पिछले चार महीनों में जिन 25-30 हिंदू लड़कियों का अपहरण हुआ वे लौट कर घर नहीं आईं. उन्होंने पूछा कि आखिर कब तक यह जुल्म होता रहेगा. सोचिये, खुद पाकिस्तानी सांसद इस बात को स्वीकार कर रहा है लेकिन भारत के एक नेता शरद पवार ये  स्वीकार करने को तैयार नहीं है. हाल ही में शरद पवार का दिया बयान सभी ने सुना है, जिसमें वह पाकिस्तानियों की हिन्दुओं के बारे में सोच को लेकर तारीफ़ कर रहे थे.

पाकिस्तानी संसद के निचले सदन नेशनल असेंबली में कोहिस्तानी ने पूछा कि आखिर हिंदुओं पर यह अत्याचार कब होता रहेगा? हिंदू कब तक अपने लोगों की लाशें उठाते रहेंगे? कब तक हमारे मंदिर फूंके जाते रहेंगे. कोहिस्तानी ने पूछा, आखिर ये घटनाएं सिंध और घोतकी में ही क्यों हो रही है. धीरे-धीरे ये आग पूरे सिंध में फैल जाएगी. इसे रोकना होगा. सिंध में कुछ लोग ऐसे हैं जिन्हें गिरफ्तार करना जरूरी है. ये सरकार की जिम्मेदारी है उन लोगों की ताकत पर लगाम लगाए.

राष्ट्रवादी पत्रकारिता को समर्थन देने के लिए हमें सहयोग करें. नीचे लिंक पर जाऐं–

राष्ट्रवादी पत्रकारिता को समर्थन देने हेतु हमे आर्थिक सहयोग करे. DONATE NOW पर क्लिक करे
DONATE NOW