सेना ने खामोश कर दिया उसके शौर्य पर सवाल उठाने वालों को .. जारी हुआ सर्जिकल स्ट्राइक एक वीडियो जिसके बाद पाकिस्तान ही नहीं भारत के सेना विरोधी भी खामोश

उन तमाम आवाजों को अचानक ही विराम लग गया है जिन्होंने भारत की सैन्य शक्ति पर सवाल उठा कर देश को वो दर्द दिया था जिसकी चोट देश ने वोट के माध्यम से की थी . भारत की सेना द्वारा की गयी सर्जिकल स्ट्राइक पर पहले दिन से आज तक सवाल उठाये जा रहे हैं . पहले दिन कांग्रेस के संजय निरुपम से शुरू हुआ ये अपराध बाद में केजरीवाल की आवाज बना और अभी हाल में ही भाजपा के ही लगभग बागी हो चुके नेता अरुण शौरी के भी मुँह से निकल कर बाहर आया जिस से राष्ट्र को आघात मिला भले ही भारत के शत्रु पाकिस्तान के चेहरे पर इन बयानों से मुस्कराहट दौड़ती रही ..

ज्ञात हो की सेना के आधिकारिक सूत्रों से प्राप्त हुआ एक वीडियो सामने आया है जो भारत की सर्जिकल स्ट्राइक को नकारने वाले पाकिस्तान के मुँह पर तमाचा तो है ही साथ ही भारत के अंदर बैठे पाकिस्तान परस्तो के लिए भी शर्मशार कर देने का विषय है .  सितंबर 2016 को पाकिस्तान प्रशासित कश्मीर में की गई सर्जिकल स्ट्राइक के दो साल बाद एक वीडियो सामने आया है. आठ मिनट के इस वीडियो में भारतीय सेना के कमांडो चरमपंथियों के लॉन्च पैड्स को तबाह करते दिख रहे हैं.  ये खबर इंडियन एक्सप्रेस समेत कई अखबारों में है. मीडिया रिपोर्ट्स के मुताबिक जवानों के ऑपरेशन के दौरान उनके हेलमेट पर लगे कैमरों और आसमान में मंडरा रहे ड्रोन कैमरों की मदद से ये पूरी कार्रवाई रिकॉर्ड की गई.

भरत की फ़ौज के गौरवपूर्ण कार्य अर्थात सर्जिकल स्ट्राइक के इंचार्ज रहे लेफ़्टिनेंट जनरल डी एस हूडा (रिटायर्ड) ने कहा, “ये वीडियो असली हैं. मैं इस बात की पुष्टि करता हूं.” बताया जा रहा है कि सर्जिकल स्ट्राइक के दौरान यह वीडियो उधमपुर स्थित हेडक्वाटर के ऑपरेशन रूम में लाइव दिखाया जा रहा था.  लेफ़्टिनेंट जनरल डी एस हूडा ने कहा, “जब सर्जिकल स्ट्राइक हुई तो मेरा कहना था कि इस वीडियो को सबूत के तौर पर पेश किया जाना चाहिए. अच्छा है कि ये वीडियो अब सामने आया है.” इस वीडियो के सामने आने के बाद पाकिस्तान पूरी तरह से खामोश हो चुका है और अपने बचाव में कोई नया बहाना खोज रहा है .

Share This Post