ईरान वही करेगा जो हम चाहेंगे, खुद से कुछ किया तो ईरान हो जायेगा वीरान- इजराइल


इस्लामिक जगत के सबसे बड़ा दुश्मन माने जाना इजराइल ने एक बार फिर से ईरान को चेतावनी दी है. इजराइल ने साफ़ कर दिया है कि वह ईरान के खिलाफ अपने रुख को नहीं बदलेगा तथा ईरान ने अगर परमाणु बम बनाने का या सीरिया में सैन्य बेस बनाने का प्रयास भी किया तो इसका अंजाम बहुत बुरा होगा. इजरायल के प्रधानमंत्री बेंजामिन नेतन्याहू ने कहा कि उनका देश ‘ईरान की आक्रामकता’ को रोकने को लेकर दृढ़ है. उन्होंने तेल-नोफ वायु अड्डे पर वायुसेना कमांडरों के अंतर्राष्ट्रीय सम्मेलन के दूसरे दिन यह बात कही. समाचार एजेंसी सिन्हुआ की रिपोर्ट के अनुसार, नेतन्याहू ने कहा, “हम ईरान को सीरिया में सैन्य अड्डे स्थापित नहीं करने देंगे और न ही परमाणु हथियार विकसित करने देंगे.”

बेंजामिन नेतन्याहू ने कहा, “इजरायली वायु सैन्य बल इस नीति को लागू करने में महत्वपूर्ण भूमिका निभा रहे हैं और यह पिछले कई सालों से लगातार और प्रभावी ढंग से किया जा रहा है”. नेतन्याहू ने ‘ईरान की आक्रामकता’ को रोकने के लिए अमेरिकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप और विदेश मंत्री माइक पोंपियो की बाहर सूत्री योजना के संदर्भ में इनके ‘मजबूत नेतृत्व’ की सराहना की है. उन्होंने कहा, “मैं आपसे विश्वास से कह सकता हूं कि मैंने जो प्रशंसा अभी व्यक्त की है, उसे मध्य पूर्व के कई देश भी साझा करते हैं.” इससे पहले इजरायल पर हमला करने की कोशिश करने वालों को गंभीर चोट पहुंचाने की कसम खाते हुए प्रधानमंत्री बेंजामिन नेतन्याहू ने कहा था कि ”ईरान ने लक्ष्मण रेखा पार कर ली” है.

इजरायली सेना और रक्षा मंत्री अवीगदोर लिबरमैन ने दावा किया था कि रात भर चला संघर्ष ईरान की सैन्य क्षमताओं के लिए करारा झटका है. यह ईरान और इजरायल की सेना के बीच हुआ अभी तक का सबसे बड़ा हमला है. इजरायल रक्षा बलों (आईडीएफ) ने कहा कि इजरायल के उत्तरी क्षेत्र में ईरान की ओर से कई रॉकेट दागे जाने के बाद बदले की कार्रवाई के तहत यह अभियान चलाया गया. नेतन्याहू ने एक बयान में कहा, ”ईरान ने लक्ष्मण रेखा पार कर दी है. हमने उसके तहत ही यह कार्रवाई की. आईडीएफ ने सीरिया में ईरानियों को निशाना बनाते हुए व्यापक हमला किया.” इजरायली प्रधानमंत्री ने कहा, ”इजरायल तक कोई रॉकेट नहीं पहुंच पाया और हमारी नीति स्पष्ट है. हम ईरान को सीरिया में सैन्य उपस्थिति बढ़ाने नहीं देंगे.”


सुदर्शन के राष्ट्रवादी पत्रकारिता को आर्थिक सहयोग करे और राष्ट्र-धर्म रक्षा में अपना कर्त्तव्य निभाए
DONATE NOW

Share