Breaking News:

तुर्की के राष्ट्रपति का संसार की सबसे बड़ी महाशक्ति रूस पर बयान दुनिया समझ नहीं पा रही कि धमकी है या सुनाया गया कोई चुटकुला

निर्विवाद रूप से आज दुनिया की सबसे बड़ी सैन्य महाशक्ति रूस है . ये वो देश है जिसने खाड़ी देशो को अकेले और बिना किसी सहयोग के ही पूरी तरह से अस्त व्यस्त कर के रख दिया है , इसके मुखिया व्लादिमीर पुतिन की छवि ने सिर्फ संसार के सबसे ताकतवर लोगो में होती है अपितु इनकी छवि दुनिया के सबसे बड़े युद्धोन्मादी नेता के रूप में भी बन चुकी है . सीरिया और ईराक रूसी सेना के संहार से आज भी उबर नहीं पाये हैं .

अब उसी रूस को दी गयी है धमकी एक इस्लामिक मुल्क द्वारा जो खुद को बनाना चाह रहा है इस्लामिक देशो का मसीहा .. ये मुल्क है तुर्की जिसने रूस में खून की नदियाँ बहा देने की धमकी दी है . पिछले कुछ समय से कुर्दों के नरसंहार के चलते खुद ही दुनिया भर में फजीहत का पात्र बन चुके तुर्की ने शनिवार को कहा कि सीरिया और रूस को चेतावनी देते हुए कहा कि अगर वे विद्रोहियों के कब्जे वाले क्षेत्र इदलिब प्रांत में हमले जारी रखना बंद नहीं करेंगे तो खून की नदियां बह जाएंगी।

इतना ही नहीं तुर्की ने धमकी देते हुए कहा कि हजारों बेकसूरों का खून बहेगा। लोगों को पलायन करने पर मजबूर होना पड़ेगा। यद्दपि अन्तराष्ट्रीय बिरादरी में इस धमकी को ले कर कोई हलचल नहीं दिख रही है और तमाम देश रूस की और तुर्की की सैन्य शक्ति से परिचित होने के बाद इसको मात्र के गीदड़भभकी ही कह रहे हैं .  इससे पहले, तेहरान में तीन दिवसीय शिखर सम्मेलन में तुर्की के राष्ट्रपति रजब तैयब एर्दोआन ने रूस से सीरिया में हमला रोकने के लिए बोला था था जिसे रूस ने तुर्की को औकात में रहने की नसीहत देते हुए एक सिरे से नकार दिया था . ध्यान देने योग्य है कि रूस के दम पर सीरिया सरकार की सेना इदलिब प्रांत की तरफ बढ़ रही है। तुर्की के विदेशमंत्री का कहना है कि उनका उद्देश्य, उत्तरी सीरिया के इदलिब की स्वतंत्रता के लिए अभियान को रोकना है क्योंकि इस क्षेत्र में आम नागरिकों को खतरा है।

 

Share This Post