कश्मीरी उन्मादियों का राष्ट्रवादी बहिष्कार.. 2 कॉलेजों ने किया एलान कि वहां नहीं मिलेगा कश्मीरियों को एडमिशन


पुलवामा में इस्लामिक आतंकी हमले में 40 से ज्यादा जवानों के बलिदान के एकतरफ जहाँ पूरा राष्ट्र आक्रोश और गम में डूबा हुआ था तो वहीं दूसरी तरफ देशभर के विभिन्न हिस्सों में रहने वाले कश्मीरी उन्मादी जवानों के बलिदान का जश्न मना रहे थे, इसमें कॉलेज में पढने वाले छात्र भी शामिल हैं. इसके बाद आक्रोशित लोगों ने कश्मीरी उन्मादियों का राष्ट्रवादी बहिष्कार शुरू कर दिया है.  खबर के मुताबिक़, देहरादून के दो शिक्षण संस्थानों ने एलान किया है कि वह अगले सत्र से कश्मीरी छात्रों को दाखिला नहीं देंगे.

डीएवी पीजी कॉलेज के छात्र संघ को लिखे एक समझौता पत्र में बाबा फरीद इंस्टीट्यूट ऑफ टेक्नोलॉजी (BFIT) के प्रिंसिपल डॉक्टर असलम सिद्दिकी ने शुक्रवार को लिखा, ”छात्र संघ के अध्यक्ष, हम आपको सुनिश्चित कराते हैं कि यदि राष्ट्र-विरोधी गतिविधि में कोई भी कश्मीरी छात्र शामिल पाया जाता है तो उसे शिक्षण संस्थान से बाहर का रास्ता दिखा दिया जाएगा.” प्रिंसिपल ने आगे भी लिखा है, ”नए सत्र में किसी भी कश्मीरी छात्र को दाखिला नहीं दिया जाएगा.” इससे पहले देहरादून में कश्मीरी छात्रों पर हमले की घटाना की बात सामने आई थी.

देहरादून के ही अल्पाइन कॉलेज ऑफ मैनेजमेंट एंड टेक्नोलॉजी के निदेशक एस के चौहान ने कहा, चौहान ने कहा, ”मैंने लिखित में दिया है कि हम अगले सत्र से किसी भी कश्मीरी छात्र को एडमिशन नहीं देंगे. मैं इससे इनकार नहीं कर सकता कि मैंने ऐसा लिखा था. हालांकि, अब तक केवल दो संस्थानों ने कहा है कि वे अगले सत्र में किसी भी कश्मीरी छात्र को प्रवेश नहीं देंगे. यदि राज्य में सभी संस्थान इसका अनुसरण करते हैं तो ही हमारा संस्थान भी इसका अनुसरण करेगा.” उन्होंने कहा कि सभी निर्णय उच्च अधिकारियों के परामर्श से लिए गए, जिनमें संस्थान के अध्यक्ष अनिल सैनी भी शामिल हैं.


सुदर्शन के राष्ट्रवादी पत्रकारिता को आर्थिक सहयोग करे और राष्ट्र-धर्म रक्षा में अपना कर्त्तव्य निभाए
DONATE NOW

Share
Loading...

Loading...